Skip to main content

इब्राहीम आयत ६ | Ibrahim 14:6

And when
وَإِذْ
और जब
said
قَالَ
कहा
Musa
مُوسَىٰ
मूसा ने
to his people
لِقَوْمِهِ
अपनी क़ौम से
"Remember
ٱذْكُرُوا۟
याद करो
(the) Favor of Allah
نِعْمَةَ
नेअमत
(the) Favor of Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह की
upon you
عَلَيْكُمْ
तुम पर है (जो)
when
إِذْ
जब
He saved you
أَنجَىٰكُم
उसने निजात दी तुम्हें
from
مِّنْ
आले फ़िरऔन से
(the) people
ءَالِ
आले फ़िरऔन से
(of) Firaun
فِرْعَوْنَ
आले फ़िरऔन से
they were afflicting you
يَسُومُونَكُمْ
वो चखाते थे तुम्हें
(with) evil
سُوٓءَ
बुरा
torment
ٱلْعَذَابِ
अज़ाब
and were slaughtering
وَيُذَبِّحُونَ
और वो ज़िबाह करते थे
your sons
أَبْنَآءَكُمْ
तुम्हारे बेटों को
and letting live
وَيَسْتَحْيُونَ
और वो ज़िन्दा छोड़ देते थे
your women
نِسَآءَكُمْۚ
तुम्हारी औरतों को
And in
وَفِى
और इसमें
that
ذَٰلِكُم
और इसमें
(was) a trial
بَلَآءٌ
आज़माइश थी
from
مِّن
तुम्हारे रब की तरफ़ से
your Lord
رَّبِّكُمْ
तुम्हारे रब की तरफ़ से
great"
عَظِيمٌ
बहुत बड़ी

Waith qala moosa liqawmihi othkuroo ni'mata Allahi 'alaykum ith anjakum min ali fir'awna yasoomoonakum sooa al'athabi wayuthabbihoona abnaakum wayastahyoona nisaakum wafee thalikum balaon min rabbikum 'atheemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जब मूसा ने अपनी क़ौम के लोगों से कहा, 'अल्लाह ही उस कृपादृष्टि को याद करो, जो तुमपर हुई। जब उसने तुम्हें फ़िरऔनियों से छुटकारा दिलाया जो तुम्हें बुरी यातना दे रहे थे, तुम्हारे बेटों का वध कर डालते थे और तुम्हारी औरतों को जीवित रखते थे, किन्तु इसमें तुम्हारे रब की ओर से बड़ी कृपा हुई।'

English Sahih:

And [recall, O Children of Israel], when Moses said to his people, "Remember the favor of Allah upon you when He saved you from the people of Pharaoh, who were afflicting you with the worst torment and were slaughtering your [newborn] sons and keeping your females alive. And in that was a great trial from your Lord.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और वह (वक्त याद दिलाओ) जब मूसा ने अपनी क़ौम से कहा कि ख़ुदा ने जो एहसान तुम पर किए हैं उनको याद करो जब अकेले तुमको फिरऔन के लोगों (के ज़ुल्म) से नजात दी कि वह तुम को बहुत बड़े बड़े दुख दे के सताते थे तुम्हारा लड़कों को जबाह कर डालते थे और तुम्हारी औरतों को (अपनी ख़िदमत के वास्ते) जिन्दा रहने देते थे और इसमें तुम्हारा परवरदिगार की तरफ से (तुम्हारा सब्र की) बड़ी (सख्त) आज़माइश थी

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा (याद करो) जब मूसा ने अपनी जाति से कहाः अपने ऊपर अल्लाह के पुरस्कार को याद करो, जब उसने तुम्हें फ़िरऔनियों से मुक्त किया, जो तुम्हें घोर यातना दे रहे थे, तुम्हारे पुत्रों को वध कर रहे थे और तुम्हारी स्त्रियों को जीवित रहने देते[1] थे और इसमें तुम्हारे परलनहार की ओर से एक महान परीक्षा थी।