Skip to main content

अल-अनकबूत आयत ४० | Al-Ankabut 29:40

So each
فَكُلًّا
तो हर एक को
We seized
أَخَذْنَا
पकड़ लिया हमने
for his sin
بِذَنۢبِهِۦۖ
बवजह उसके गुनाह के
Then of them
فَمِنْهُم
तो उनमें से कोई है
(was he) who
مَّنْ
जो
We sent
أَرْسَلْنَا
भेजी हमने
on him
عَلَيْهِ
जिस पर
a violent storm
حَاصِبًا
पत्थरों की आँधी
and of them
وَمِنْهُم
और उनमें से कोई है
(was he) who
مَّنْ
जो
seized him
أَخَذَتْهُ
पकड़ लिया उसको
the awful cry
ٱلصَّيْحَةُ
चिंघाड़ ने
and of them
وَمِنْهُم
और उनमें से कोई है
(was he) who
مَّنْ
जो
We caused to swallow
خَسَفْنَا
धँसा दिया हमने
him
بِهِ
साथ उसके
the earth
ٱلْأَرْضَ
ज़मीन को
and of them
وَمِنْهُم
और उनमें से कोई है
(was he) who
مَّنْ
जिसे
We drowned
أَغْرَقْنَاۚ
ग़र्क़ कर दिया हमने
And not
وَمَا
और नहीं
was
كَانَ
है
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
to wrong them
لِيَظْلِمَهُمْ
कि वो ज़ुल्म करे उन पर
but
وَلَٰكِن
और लेकिन
they were
كَانُوٓا۟
थे वो
themselves
أَنفُسَهُمْ
अपनी ही जानों पर
doing wrong
يَظْلِمُونَ
वो ज़ुल्म करते

Fakullan akhathna bithanbihi faminhum man arsalna 'alayhi hasiban waminhum man akhathathu alssayhatu waminhum man khasafna bihi alarda waminhum man aghraqna wama kana Allahu liyathlimahum walakin kanoo anfusahum yathlimoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

अन्ततः हमने हरेक को उसके अपने गुनाह के कारण पकड़ लिया। फिर उनमें से कुछ पर तो हमने पथराव करनेवाली वायु भेजी और उनमें से कुछ को एक प्रचंड चीत्कार न आ लिया। और उनमें से कुछ को हमने धरती में धँसा दिया। और उनमें से कुछ को हमने डूबो दिया। अल्लाह तो ऐसा न था कि उनपर ज़ुल्म करता, किन्तु वे स्वयं अपने आपपर ज़ुल्म कर रहे थे

English Sahih:

So each We seized for his sin; and among them were those upon whom We sent a storm of stones, and among them were those who were seized by the blast [from the sky], and among them were those whom We caused the earth to swallow, and among them were those whom We drowned. And Allah would not have wronged them, but it was they who were wronging themselves.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तो हमने सबको उनके गुनाह की सज़ा में ले डाला चुनांन्चे उनमे से बाज़ तो वह थे जिन पर हमने पत्थर वाली ऑंधी भेजी और बाज़ उनमें से वह थे जिन को एक सख्त चिंघाड़ ने ले डाला और बाज़ उनमें से वह थे जिनको हमने ज़मीन मे धॅसा दिया और बाज़ उनमें से वह थे जिन्हें हमने डुबो मारा और ये बात नहीं कि ख़ुदा ने उन पर ज़ुल्म किया हो बल्कि (सच युं है कि) ये लोग ख़ुद (ख़ुदा की नाफ़रमानी करके) आप अपने ऊपर ज़ुल्म करते रहे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तो प्रत्येक को हमने पकड़ लिया उसके पाप के कारण, तो इनमें से कुछ पर पत्थर बरसाये[1] और उनमें से कुछ को पकड़ा[2] कड़ी ध्वनि ने तथा कुछ को धंसा दिया धरती में[3] और कुछ को डुबो[4] दिया तथा नहीं था अल्लाह कि उनपर अत्याचार करता, परन्तु वे स्वयं अपने ऊपर अत्याचार कर रहे थे।