Skip to main content
bismillah
الٓمٓ
ا ل م

Aliflammeem

अलिफ़॰ लाम॰ मीम॰

Tafseer (तफ़सीर )
أَحَسِبَ
क्या समझ लिया है
ٱلنَّاسُ
लोगों ने
أَن
कि
يُتْرَكُوٓا۟
वो छोड़ दिए जाऐंगे
أَن
ये कि
يَقُولُوٓا۟
वो कह दें
ءَامَنَّا
ईमान लाए हम
وَهُمْ
और वो
لَا
ना वो आज़माए जाऐंगे
يُفْتَنُونَ
ना वो आज़माए जाऐंगे

Ahasiba alnnasu an yutrakoo an yaqooloo amanna wahum la yuftanoona

क्या लोगों ने यह समझ रखा है कि वे इतना कह देने मात्र से छोड़ दिए जाएँगे कि 'हम ईमान लाए' और उनकी परीक्षा न की जाएगी?

Tafseer (तफ़सीर )
وَلَقَدْ
और अलबत्ता तहक़ीक़
فَتَنَّا
आज़माया हमने
ٱلَّذِينَ
उनको जो
مِن
उनसे पहले थे
قَبْلِهِمْۖ
उनसे पहले थे
فَلَيَعْلَمَنَّ
पस अलबत्ता ज़रूर जान लेगा
ٱللَّهُ
अल्लाह
ٱلَّذِينَ
उन लोगों को जिन्होंने
صَدَقُوا۟
सच कहा
وَلَيَعْلَمَنَّ
और अलबत्ता वो ज़रूर जान लेगा
ٱلْكَٰذِبِينَ
झूठों को

Walaqad fatanna allatheena min qablihim falaya'lamanna Allahu allatheena sadaqoo walaya'lamanna alkathibeena

हालाँकि हम उन लोगों की परीक्षा कर चुके है जो इनसे पहले गुज़र चुके है। अल्लाह तो उन लोगों को मालूम करके रहेगा, जो सच्चे है। और वह झूठों को भी मालूम करके रहेगा

Tafseer (तफ़सीर )
أَمْ
या
حَسِبَ
समझ लिया
ٱلَّذِينَ
उन लोगों ने जो
يَعْمَلُونَ
अमल करते हैं
ٱلسَّيِّـَٔاتِ
बुरे
أَن
कि
يَسْبِقُونَاۚ
वो सबक़त ले जाऐंगे हमसे
سَآءَ
कितना बुरा है
مَا
जो
يَحْكُمُونَ
वो फ़ैसला कर रहे हैं

Am hasiba allatheena ya'maloona alssayyiati an yasbiqoona saa ma yahkumoona

या उन लोगों ने, जो बुरे कर्म करते है, यह समझ रखा है कि वे हमारे क़ाबू से बाहर निकल जाएँगे? बहुत बुरा है जो फ़ैसला वे कर रहे है

Tafseer (तफ़सीर )
مَن
जो कोई
كَانَ
हो
يَرْجُوا۟
उम्मीद रखता
لِقَآءَ
अल्लाह से मुलाक़ात की
ٱللَّهِ
अल्लाह से मुलाक़ात की
فَإِنَّ
तो बेशक
أَجَلَ
मुक़र्ररह वक़्त
ٱللَّهِ
अल्लाह का
لَءَاتٍۚ
अलबत्ता आने वाला है
وَهُوَ
और वो
ٱلسَّمِيعُ
ख़ूब सुनने वाला है
ٱلْعَلِيمُ
ख़ूब जानने वाला है

Man kana yarjoo liqaa Allahi fainna ajala Allahi laatin wahuwa alssamee'u al'aleemu

जो व्यक्ति अल्लाह से मिलने का आशा रखता है तो अल्लाह का नियत समय तो आने ही वाला है। और वह सब कुछ सुनता, जानता है

Tafseer (तफ़सीर )
وَمَن
और जो कोई
جَٰهَدَ
जिहाद करे
فَإِنَّمَا
तो बेशक
يُجَٰهِدُ
वो जिहाद करता है
لِنَفْسِهِۦٓۚ
अपने नफ़्स के लिए
إِنَّ
बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
لَغَنِىٌّ
अलबत्ता बहुत बेनियाज़ है
عَنِ
तमाम जहान वालों से
ٱلْعَٰلَمِينَ
तमाम जहान वालों से

Waman jahada fainnama yujahidu linafsihi inna Allaha laghaniyyun 'ani al'alameena

और जो व्यक्ति (अल्लाह के मार्ग में) संघर्ष करता है वह तो स्वयं अपने ही लिए संघर्ष करता है। निश्चय ही अल्लाह सारे संसार से निस्पृह है

Tafseer (तफ़सीर )
وَٱلَّذِينَ
और वो जो
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए
وَعَمِلُوا۟
और उन्होंने अमल किए
ٱلصَّٰلِحَٰتِ
नेक
لَنُكَفِّرَنَّ
अलबत्ता हम ज़रूर दूर कर देंगे
عَنْهُمْ
उनसे
سَيِّـَٔاتِهِمْ
बुराइयाँ उनकी
وَلَنَجْزِيَنَّهُمْ
और अलबत्ता हम ज़रूर बदला देंगे उन्हें
أَحْسَنَ
बेहतरीन
ٱلَّذِى
उसका जो
كَانُوا۟
थे वो
يَعْمَلُونَ
वो अमल करते

Waallatheena amanoo wa'amiloo alssalihati lanukaffiranna 'anhum sayyiatihim walanajziyannahum ahsana allathee kanoo ya'maloona

और जो लोग ईमान लाए और उन्होंने अच्छा कर्म किए हम उनसे उनकी बुराइयों को दूर कर देंगे और उन्हें अवश्य ही उसका प्रतिदान प्रदान करेंगे, जो कुछ अच्छे कर्म वे करते रहे होंगे

Tafseer (तफ़सीर )
وَوَصَّيْنَا
और ताकीद की हमने
ٱلْإِنسَٰنَ
इन्सान को
بِوَٰلِدَيْهِ
अपने वालिदैन के साथ
حُسْنًاۖ
भलाई (करने) की
وَإِن
और अगर
جَٰهَدَاكَ
वो दोनों ज़ोर डालें तुम पर
لِتُشْرِكَ
ताकि तुम शरीक करो
بِى
मेरे साथ
مَا
उसको जो
لَيْسَ
नहीं है
لَكَ
तुम्हें
بِهِۦ
जिसका
عِلْمٌ
कोई इल्म
فَلَا
तो ना
تُطِعْهُمَآۚ
तुम इताअत करो उन दोनों की
إِلَىَّ
मेरी ही तरफ़
مَرْجِعُكُمْ
लौटना है तुम्हारा
فَأُنَبِّئُكُم
तो मैं बताऊँगा तुम्हें
بِمَا
वो जो
كُنتُمْ
थे तुम
تَعْمَلُونَ
तुम अमल किया करते

Wawassayna alinsana biwalidayhi husnan wain jahadaka litushrika bee ma laysa laka bihi 'ilmun fala tuti'huma ilayya marji'ukum faonabbiokum bima kuntum ta'maloona

और हमने मनुष्यों को अपने माँ-बाप के साथ अच्छा व्यवहार करने की ताकीद की है। किन्तु यदि वे तुमपर ज़ोर डालें कि तू किसी ऐसी चीज़ को मेरा साक्षी ठहराए, जिसका तुझे कोई ज्ञान नहीं, तो उनकी बात न मान। मेरी ही ओर तुम सबको पलटकर आना है, फिर मैं तुम्हें बता दूँगा जो कुछ कुम करते रहे होगे

Tafseer (तफ़सीर )
وَٱلَّذِينَ
और वो जो
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए
وَعَمِلُوا۟
और उन्होंने अमल किए
ٱلصَّٰلِحَٰتِ
नेक
لَنُدْخِلَنَّهُمْ
अलबत्ता हम ज़रूर दाख़िल करेंगे उन्हें
فِى
नेक लोगों में
ٱلصَّٰلِحِينَ
नेक लोगों में

Waallatheena amanoo wa'amiloo alssalihati lanudkhilannahum fee alssaliheena

और जो लोग ईमान लाए और उन्होंने अच्छे कर्म किए हम उन्हें अवश्य अच्छे लोगों में सम्मिलित करेंगे

Tafseer (तफ़सीर )
وَمِنَ
और लोगों में से कोई है
ٱلنَّاسِ
और लोगों में से कोई है
مَن
जो
يَقُولُ
कहता है
ءَامَنَّا
ईमान लाए हम
بِٱللَّهِ
अल्लाह पर
فَإِذَآ
फिर जब
أُوذِىَ
वो अज़ियत दिया जाता है
فِى
अल्लाह (की राह) में
ٱللَّهِ
अल्लाह (की राह) में
جَعَلَ
वो बना लेता है
فِتْنَةَ
आज़माइश को
ٱلنَّاسِ
लोगों की
كَعَذَابِ
अल्लाह के आज़ाब की तरह
ٱللَّهِ
अल्लाह के आज़ाब की तरह
وَلَئِن
और अलबत्ता अगर
جَآءَ
आ गई
نَصْرٌ
मदद
مِّن
आपके रब की तरफ़ से
رَّبِّكَ
आपके रब की तरफ़ से
لَيَقُولُنَّ
अलबत्ता वो ज़रूर कहेंगे
إِنَّا
बेशक हम
كُنَّا
थे हम
مَعَكُمْۚ
साथ तुम्हारे
أَوَلَيْسَ
क्या भला नहीं
ٱللَّهُ
अल्लाह
بِأَعْلَمَ
ख़ूब जानता
بِمَا
उसे जो
فِى
सीनों में है
صُدُورِ
सीनों में है
ٱلْعَٰلَمِينَ
तमाम जहान वालों के

Wamina alnnasi man yaqoolu amanna biAllahi faitha oothiya fee Allahi ja'ala fitnata alnnasi ka'athabi Allahi walain jaa nasrun min rabbika layaqoolunna inna kunna ma'akum awalaysa Allahu bia'lama bima fee sudoori al'alameena

लोगों में ऐसे भी है जो कहते है कि 'हम अल्लाह पर ईमान लाए,' किन्तु जब अल्लाह के मामले में वे सताए गए तो उन्होंने लोगों की ओर से आई हुई आज़माइश को अल्लाह की यातना समझ लिया। अब यदि तेरे रब की ओर से सहायता पहुँच गई तो कहेंगे, 'हम तो तुम्हारे साथ थे।' क्या जो कुछ दुनियावालों के सीनों में है उसे अल्लाह भली-भाँति नहीं जानता?

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अल-अनकबूत
القرآن الكريم:العنكبوت
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):Al-'Ankabut
सूरा:29
कुल आयत:69
कुल शब्द:980
कुल वर्ण:4165
रुकु:7
वर्गीकरण:मक्कन सूरा
Revelation Order:85
से शुरू आयत:3340