Skip to main content

अल-अनकबूत आयत १० | Al-Ankabut 29:10

And of
وَمِنَ
और लोगों में से कोई है
the people
ٱلنَّاسِ
और लोगों में से कोई है
(is he) who
مَن
जो
says
يَقُولُ
कहता है
"We believe
ءَامَنَّا
ईमान लाए हम
in Allah"
بِٱللَّهِ
अल्लाह पर
But when
فَإِذَآ
फिर जब
he is harmed
أُوذِىَ
वो अज़ियत दिया जाता है
in
فِى
अल्लाह (की राह) में
(the Way of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह (की राह) में
he considers
جَعَلَ
वो बना लेता है
(the) trial
فِتْنَةَ
आज़माइश को
(of) the people
ٱلنَّاسِ
लोगों की
as (the) punishment
كَعَذَابِ
अल्लाह के आज़ाब की तरह
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह के आज़ाब की तरह
But if
وَلَئِن
और अलबत्ता अगर
comes
جَآءَ
आ गई
victory
نَصْرٌ
मदद
from
مِّن
आपके रब की तरफ़ से
your Lord
رَّبِّكَ
आपके रब की तरफ़ से
surely they say
لَيَقُولُنَّ
अलबत्ता वो ज़रूर कहेंगे
"Indeed, we
إِنَّا
बेशक हम
were
كُنَّا
थे हम
with you"
مَعَكُمْۚ
साथ तुम्हारे
Is not
أَوَلَيْسَ
क्या भला नहीं
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
most knowing
بِأَعْلَمَ
ख़ूब जानता
of what
بِمَا
उसे जो
(is) in
فِى
सीनों में है
(the) breasts
صُدُورِ
सीनों में है
(of) the worlds?
ٱلْعَٰلَمِينَ
तमाम जहान वालों के

Wamina alnnasi man yaqoolu amanna biAllahi faitha oothiya fee Allahi ja'ala fitnata alnnasi ka'athabi Allahi walain jaa nasrun min rabbika layaqoolunna inna kunna ma'akum awalaysa Allahu bia'lama bima fee sudoori al'alameena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

लोगों में ऐसे भी है जो कहते है कि 'हम अल्लाह पर ईमान लाए,' किन्तु जब अल्लाह के मामले में वे सताए गए तो उन्होंने लोगों की ओर से आई हुई आज़माइश को अल्लाह की यातना समझ लिया। अब यदि तेरे रब की ओर से सहायता पहुँच गई तो कहेंगे, 'हम तो तुम्हारे साथ थे।' क्या जो कुछ दुनियावालों के सीनों में है उसे अल्लाह भली-भाँति नहीं जानता?

English Sahih:

And of the people are some who say, "We believe in Allah," but when one [of them] is harmed for [the cause of] Allah, he considers the trial [i.e., harm] of the people as [if it were] the punishment of Allah. But if victory comes from your Lord, they say, "Indeed, We were with you." Is not Allah most knowing of what is within the breasts of the worlds [i.e., all creatures]?

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और कुछ लोग ऐसे भी हैं जो (ज़बान से तो) कह देते हैं कि हम ख़ुदा पर ईमान लाए फिर जब उनको ख़ुदा के बारे में कुछ तकलीफ़ पहुँची तो वह लोगों की तकलीफ़ देही को अज़ाब के बराबर ठहराते हैं और (ऐ रसूल) अगर तुम्हारे पास तुम्हारे परवरदिगार की मदद आ पहुँची और तुम्हें फतेह हुई तो यही लोग कहने लगते हैं कि हम भी तो तुम्हारे साथ ही साथ थे भला जो कुछ सारे जहाँन के दिलों में है क्या ख़ुदा बख़ूबी वाक़िफ नहीं (ज़रुर है)

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और लोगों में वे (भी) हैं, जो कहते हैं कि हम ईमान लाये अल्लाह पर। फिर जब सताये गये अल्लाह के बारे में, तो समझ लिया लोगों की परीक्षा को अल्लाह की यातना के समान। और यदि आ जाये कोई सहायता आपके पालनहार की ओर से, तो अवश्य कहेंगे कि हम तुम्हारे साथ थे। तो क्या अल्लाह भली-भाँति अवगत नहीं है उससे, जो संसार वासियों के दिलों में हैं?