Skip to main content

अन-निसा आयत ३१ | An-Nisa 4:31

If
إِن
अगर
you avoid
تَجْتَنِبُوا۟
तुम इज्तिनाब करो/बचो
great (sins)
كَبَآئِرَ
बड़े गुनाहों से
(of) what
مَا
वो जो
you are forbidden
تُنْهَوْنَ
तुम रोके जाते हो
from [it]
عَنْهُ
जिनसे
We will remove
نُكَفِّرْ
हम दूर कर देंगे
from you
عَنكُمْ
तुम से
your evil deeds
سَيِّـَٔاتِكُمْ
बुराईयाँ तुम्हारी
and We will admit you
وَنُدْخِلْكُم
और हम दाख़िल करेंगे तुम्हें
(to) an entrance
مُّدْخَلًا
दाख़िल करना
a noble
كَرِيمًا
इज़्ज़त से

In tajtaniboo kabaira ma tunhawna 'anhu nukaffir 'ankum sayyiatikum wanudkhilkum mudkhalan kareeman

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यदि तुम उन बड़े गुनाहों से बचते रहो, जिनसे तुम्हे रोका जा रहा है, तो हम तुम्हारी बुराइयों को तुमसे दूर कर देंगे और तुम्हें प्रतिष्ठित स्थान में प्रवेश कराएँगे

English Sahih:

If you avoid the major sins which you are forbidden, We will remove from you your lesser sins and admit you to a noble entrance [into Paradise].

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जिन कामों की तुम्हें मनाही की जाती है अगर उनमें से तुम गुनाहे कबीरा से बचते रहे तो हम तुम्हारे (सग़ीरा) गुनाहों से भी दरगुज़र करेंगे और तुमको बहुत अच्छी इज्ज़त की जगह पहुंचा देंगे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा यदि तुम, उन महा पापों से बचते रहे, जिनसे तुम्हें रोका जा रहा है, तो हम तुम्हारे लिए तुम्हारे दोषों को क्षमा कर देंगे और तुम्हें सम्मानित स्थान में प्रवेश देंगे।