Skip to main content

अश-शूरा आयत ४८ | Ash-Shuraa 42:48

Then if
فَإِنْ
फिर अगर
they turn away
أَعْرَضُوا۟
वो ऐराज़ करें
then not
فَمَآ
तो नहीं
We have sent you
أَرْسَلْنَٰكَ
भेजा हमने आपको
over them
عَلَيْهِمْ
उन पर
(as) a guardian
حَفِيظًاۖ
निगेहबान बना कर
Not
إِنْ
नहीं
(is) on you
عَلَيْكَ
आपके ज़िम्मे
except
إِلَّا
मगर
the conveyance
ٱلْبَلَٰغُۗ
पहुँचा देना
And indeed
وَإِنَّآ
और बेशक हम
when
إِذَآ
जब
We cause to taste
أَذَقْنَا
चखाते हैं हम
[the] man
ٱلْإِنسَٰنَ
इन्सान को
from Us
مِنَّا
अपनी तरफ़ से
Mercy
رَحْمَةً
कोई रहमत
he rejoices
فَرِحَ
वो ख़ुश हो जाता है
in it
بِهَاۖ
उस पर
But if
وَإِن
और अगर
befalls them
تُصِبْهُمْ
पहुँचती है उन्हें
evil
سَيِّئَةٌۢ
कोई तक्लीफ़
for what
بِمَا
बवजह उसके जो
have sent forth
قَدَّمَتْ
आगे भेजा
their hands
أَيْدِيهِمْ
उनके हाथों ने
then indeed
فَإِنَّ
तो बेशक
[the] man
ٱلْإِنسَٰنَ
इन्सान
(is) ungrateful
كَفُورٌ
सख़्त नाशुक्रा है

Fain a'radoo fama arsalnaka 'alayhim hafeethan in 'alayka illa albalaghu wainna itha athaqna alinsana minna rahmatan fariha biha wain tusibhum sayyiatun bima qaddamat aydeehim fainna alinsana kafoorun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

अब यदि वे ध्यान में न लाएँ तो हमने तो तुम्हें उनपर कोई रक्षक बनाकर तो भेजा नहीं है। तुमपर तो केवल (संदेश) पहुँचा देने की ज़िम्मेदारी है। हाल यह है कि जब हम मनुष्य को अपनी ओर से किसी दयालुता का आस्वादन कराते है तो वह उसपर इतराने लगता है, किन्तु ऐसे लोगों के हाथों ने जो कुछ आगे भेजा है उसके कारण यदि उन्हें कोई तकलीफ़ पहुँचती है तो निश्चय ही वही मनुष्य बड़ा कृतघ्न बन जाता है

English Sahih:

But if they turn away – then We have not sent you, [O Muhammad], over them as a guardian; upon you is only [the duty of] notification. And indeed, when We let man taste mercy from Us, he rejoices in it; but if evil afflicts him for what his hands have put forth, then indeed, man is ungrateful.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

फिर अगर मुँह फेर लें तो (ऐ रसूल) हमने तुमको उनका निगेहबान बनाकर नहीं भेजा तुम्हारा काम तो सिर्फ (एहकाम का) पहुँचा देना है और जब हम इन्सान को अपनी रहमत का मज़ा चखाते हैं तो वह उससे ख़ुश हो जाता है और अगर उनको उन्हीं के हाथों की पहली करतूतों की बदौलत कोई तकलीफ पहुँचती (सब एहसान भूल गए) बेशक इन्सान बड़ा नाशुक्रा है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

फिर भी यदि वे विमुख हों, तो (हे नबी!) हमने नहीं भेजा है आपको उनपर रक्षक बनाकर। आपका दायित्व केवल संदेश पहुँचा देना है और वास्तव में, जब हम चखा देते हैं मनुष्य को अपनी दया, तो वह इतराने लगता है, उसपर और यदि पहुँचता है उन्हें कोई दुःख, उनके करतूत के कारण, तो मनुष्य बड़ा कृतघ्न बन जाता है।