Skip to main content

अश-शूरा आयत ५ | Ash-Shuraa 42:5

Almost
تَكَادُ
क़रीब है कि
the heavens
ٱلسَّمَٰوَٰتُ
आसमान
break up
يَتَفَطَّرْنَ
वो फट पड़ें
from
مِن
अपने ऊपर से
above them
فَوْقِهِنَّۚ
अपने ऊपर से
and the Angels
وَٱلْمَلَٰٓئِكَةُ
और फ़रिश्ते
glorify
يُسَبِّحُونَ
वो तस्बीह करते हैं
(the) praise
بِحَمْدِ
साथ तारीफ़ के
(of) their Lord
رَبِّهِمْ
अपने रब की
and ask for forgiveness
وَيَسْتَغْفِرُونَ
और वो बख़्शिश माँगते हैं
for those
لِمَن
उनके लिए जो
on
فِى
ज़मीन में हैं
the earth
ٱلْأَرْضِۗ
ज़मीन में हैं
Unquestionably
أَلَآ
ख़बरदार
indeed
إِنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
He
هُوَ
वो ही है
(is) the Oft-Forgiving
ٱلْغَفُورُ
बहुत बख़्शने वाला
the Most Merciful
ٱلرَّحِيمُ
निहायत रहम करने वाला

Takadu alssamawatu yatafattarna min fawqihinna waalmalaikatu yusabbihoona bihamdi rabbihim wayastaghfiroona liman fee alardi ala inna Allaha huwa alghafooru alrraheemu

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

लगता है कि आकाश स्वयं अपने ऊपर से फट पड़े। हाल यह है कि फ़रिश्ते अपने रब का गुणगान कर रहे, और उन लोगों के लिए जो धरती में है, क्षमा की प्रार्थना करते रहते है। सुन लो! निश्चय ही अल्लाह ही क्षमाशील, अत्यन्त दयावान है

English Sahih:

The heavens almost break from above them, and the angels exalt [Allah] with praise of their Lord and ask forgiveness for those on earth. Unquestionably, it is Allah who is the Forgiving, the Merciful.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(उनकी बातों से) क़रीब है कि सारे आसमान (उसकी हैबत के मारे) अपने ऊपर वार से फट पड़े और फ़रिश्ते तो अपने परवरदिगार की तारीफ़ के साथ तसबीह करते हैं और जो लोग ज़मीन में हैं उनके लिए (गुनाहों की) माफी माँगा करते हैं सुन रखो कि ख़ुदा ही यक़ीनन बड़ा बख्शने वाला मेहरबान है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

समीप है कि आकाश फट[1] पड़ें अपने ऊपर से, जबकि फ़रिश्ते पवित्रता का गान करते हैं अपने पालनहार की प्रशंसा के साथ तथा क्षमायाचना करते हैं उनके लिए, जो धरती में हैं। सुनो! वास्तव में, अल्लाह ही अत्यंत क्षमा करने तथा दया करने वाला है।