Skip to main content

अल-मुजादिला आयत ११ | Al-Mujadila 58:11

O you who believe!
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगो जो
O you who believe!
ٱلَّذِينَ
ऐ लोगो जो
O you who believe!
ءَامَنُوٓا۟
ईमान लाए हो
When
إِذَا
जब
it is said
قِيلَ
कहा जाए
to you
لَكُمْ
तुमसे
"Make room"
تَفَسَّحُوا۟
कुशादगी करो
in
فِى
मजलिसों में
the assemblies
ٱلْمَجَٰلِسِ
मजलिसों में
then make room
فَٱفْسَحُوا۟
तो कुशादगी किया करो
Allah will make room
يَفْسَحِ
कुशादगी कर देगा
Allah will make room
ٱللَّهُ
अल्लाह
for you
لَكُمْۖ
तुम्हारे लिए
And when
وَإِذَا
और जब
it is said
قِيلَ
कहा जाए
"Rise up"
ٱنشُزُوا۟
उठ जाओ
then rise up
فَٱنشُزُوا۟
तो उठ जाया करो
Allah will raise
يَرْفَعِ
बुलन्द करता है
Allah will raise
ٱللَّهُ
अल्लाह
those who
ٱلَّذِينَ
उन लोगों को जो
believe
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए
among you
مِنكُمْ
तुम में से
and those who
وَٱلَّذِينَ
और वो जो
were given
أُوتُوا۟
दिए गए
the knowledge
ٱلْعِلْمَ
इल्म
(in) degrees
دَرَجَٰتٍۚ
दरजात में
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
of what
بِمَا
उससे जो
you do
تَعْمَلُونَ
तुम अमल करते हो
(is) All-Aware
خَبِيرٌ
ख़ूब बाख़बर है

Ya ayyuha allatheena amanoo itha qeela lakum tafassahoo fee almajalisi faifsahoo yafsahi Allahu lakum waitha qeela onshuzoo faonshuzoo yarfa'i Allahu allatheena amanoo minkum waallatheena ootoo al'ilma darajatin waAllahu bima ta'maloona khabeerun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

ऐ ईमान लानेवालो! जब तुमसे कहा जाए कि मजलिसों में जगह कुशादा कर दे, तो कुशादगी पैदा कर दो। अल्लाह तुम्हारे लिए कुशादगी पैदा करेगा। और जब कहा जाए कि उठ जाओ, तो उठ जाया करो। तुममें से जो लोग ईमान लाए है और उन्हें ज्ञान प्रदान किया गया है, अल्लाह उनके दरजों को उच्चता प्रदान करेगा। जो कुछ तुम करते हो अल्लाह उसकी पूरी ख़बर रखता है

English Sahih:

O you who have believed, when you are told, "Space yourselves" in assemblies, then make space; Allah will make space for you. And when you are told, "Arise," then arise; Allah will raise those who have believed among you and those who were given knowledge, by degrees. And Allah is Aware of what you do.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ऐ ईमानदारों जब तुमसे कहा जाए कि मजलिस में जगह कुशादा करो वह तो कुशादा कर दिया करो ख़ुदा तुमको कुशादगी अता करेगा और जब तुमसे कहा जाए कि उठ खड़े हो तो उठ खड़े हुआ करो जो लोग तुमसे ईमानदार हैं और जिनको इल्म अता हुआ है ख़ुदा उनके दर्जे बुलन्द करेगा और ख़ुदा तुम्हारे सब कामों से बेख़बर है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

हे ईमान वालो! जब तुमसे कहा जाये कि विस्तार कर दो अपनी सभाओं में, तो विस्तार[1] कर दो, विस्तार कर देगा अल्लाह तुम्हारे लिए तथा जब कहा जाये कि सुकड़ जाओ, तो सुकड़ जाओ। ऊँचा[2] कर देगा अल्लाह उन्हें, जो ईमान लाये हैं तुममें से तथा जिन्हें ज्ञान प्रदान किया गया है, कई श्रेणियाँ तथा अल्लाह उससे जो तुम करते हो, भली-भाँति अवगत है।