Skip to main content
bismillah
قَدْ
तहक़ीक़
سَمِعَ
सुन ली
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
قَوْلَ
बात
ٱلَّتِى
उस औरत की जो
تُجَٰدِلُكَ
झगड़ रही थी आपसे
فِى
अपने शौहर के बारे में
زَوْجِهَا
अपने शौहर के बारे में
وَتَشْتَكِىٓ
और वो शिकायत कर रही थी
إِلَى
अल्लाह से
ٱللَّهِ
अल्लाह से
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
يَسْمَعُ
वो सुन रहा था
تَحَاوُرَكُمَآۚ
गुफ़्तगू तुम दोनों की
إِنَّ
बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
سَمِيعٌۢ
ख़ूब सुनने वाला है
بَصِيرٌ
ख़ूब देखने वाला है

Qad sami'a Allahu qawla allatee tujadiluka fee zawjiha watashtakee ila Allahi waAllahu yasma'u tahawurakuma inna Allaha samee'un baseerun

अल्लाह ने उस स्त्री की बात सुन ली जो अपने पति के विषय में तुमसे झगड़ रही है और अल्लाह से शिकायत किए जाती है। अल्लाह तुम दोनों की बातचीत सुन रहा है। निश्चय ही अल्लाह सब कुछ सुननेवाला, देखनेवाला है

Tafseer (तफ़सीर )
ٱلَّذِينَ
वो लोग जो
يُظَٰهِرُونَ
ज़िहार करते हैं
مِنكُم
तुम में से
مِّن
अपनी बीवियों से
نِّسَآئِهِم
अपनी बीवियों से
مَّا
नहीं हैं
هُنَّ
वो
أُمَّهَٰتِهِمْۖ
माँऐं उनकी
إِنْ
नहीं
أُمَّهَٰتُهُمْ
माँऐं उनकी
إِلَّا
मगर
ٱلَّٰٓـِٔى
वो जिन्होंने
وَلَدْنَهُمْۚ
जन्म दिया उन्हें
وَإِنَّهُمْ
और बेशक वो
لَيَقُولُونَ
अलबत्ता वो कहते हैं
مُنكَرًا
नामाक़ूल/नापसंदीदा
مِّنَ
बात
ٱلْقَوْلِ
बात
وَزُورًاۚ
और झूठ
وَإِنَّ
और बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
لَعَفُوٌّ
अलबत्ता बहुत माफ़ करने वाला है
غَفُورٌ
बहुत बख़्शने वाला है

Allatheena yuthahiroona minkum min nisaihim ma hunna ommahatihim in ommahatuhum illa allaee waladnahum wainnahum layaqooloona munkaran mina alqawli wazooran wainna Allaha la'afuwwun ghafoorun

तुममें से जो लोग अपनी स्त्रियों से ज़िहार करते हैं, उनकी माएँ वे नहीं है, उनकी माएँ तो वही है जिन्होंने उनको जन्म दिया है। यह अवश्य है कि वे लोग एक अनुचित बात और झूठ कहते है। और निश्चय ही अल्लाह टाल जानेवाला अत्यन्त क्षमाशील है

Tafseer (तफ़सीर )
وَٱلَّذِينَ
और वो लोग जो
يُظَٰهِرُونَ
ज़िहार करते हैं
مِن
अपनी बीवियों से
نِّسَآئِهِمْ
अपनी बीवियों से
ثُمَّ
फिर
يَعُودُونَ
वो रुजूअ कर लेते हैं
لِمَا
उससे जो
قَالُوا۟
उन्होंने कहा
فَتَحْرِيرُ
पस आज़ाद करना है
رَقَبَةٍ
एक गर्दन का
مِّن
इससे क़ब्ल
قَبْلِ
इससे क़ब्ल
أَن
कि
يَتَمَآسَّاۚ
वो दोनों एक दूसरे को छुऐं
ذَٰلِكُمْ
ये है
تُوعَظُونَ
तुम नसीहत किए जाते हो
بِهِۦۚ
जिसकी
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
بِمَا
उससे जो
تَعْمَلُونَ
तुम अमल करते हो
خَبِيرٌ
ख़ूब बाख़बर है

Waallatheena yuthahiroona min nisaihim thumma ya'oodoona lima qaloo fatahreeru raqabatin min qabli an yatamassa thalikum too'athoona bihi waAllahu bima ta'maloona khabeerun

जो लोग अपनी स्त्रियों से ज़िहार करते हैं; फिर जो बात उन्होंने कही थी उससे रुजू करते है, तो इससे पहले कि दोनों एक-दूसरे को हाथ लगाएँ एक गर्दन आज़ाद करनी होगी। यह वह बात है जिसकी तुम्हें नसीहत की जाती है, और तुम जो कुछ करते हो अल्लाह उसकी ख़बर रखता है

Tafseer (तफ़सीर )
فَمَن
तो जो कोई
لَّمْ
ना
يَجِدْ
पाए (ग़ुलाम)
فَصِيَامُ
तो रोज़े रखना है
شَهْرَيْنِ
दो माह के
مُتَتَابِعَيْنِ
मुसलसल
مِن
इससे क़ब्ल
قَبْلِ
इससे क़ब्ल
أَن
कि
يَتَمَآسَّاۖ
वो दोनों एक दूसरे को छुऐं
فَمَن
तो जो कोई
لَّمْ
ना
يَسْتَطِعْ
इस्तिताअत रखता हो
فَإِطْعَامُ
तो खाना खिलाना है
سِتِّينَ
साठ
مِسْكِينًاۚ
मिसकीनों का
ذَٰلِكَ
ये (इस लिए है)
لِتُؤْمِنُوا۟
ताकि तुम ईमान लाओ
بِٱللَّهِ
अल्लाह पर
وَرَسُولِهِۦۚ
और उसके रसूल पर
وَتِلْكَ
और ये
حُدُودُ
हुदूद हैं
ٱللَّهِۗ
अल्लाह की
وَلِلْكَٰفِرِينَ
और काफ़िरों के लिए
عَذَابٌ
अज़ाब है
أَلِيمٌ
दर्दनाक

Faman lam yajid fasiyamu shahrayni mutatabi'ayni min qabli an yatamassa faman lam yastati' fait'amu sitteena miskeenan thalika lituminoo biAllahi warasoolihi watilka hudoodu Allahi walilkafireena 'athabun aleemun

किन्तु जिस किसी को ग़ुलाम प्राप्त न हो तो वह निरन्तर दो माह रोज़े रखे, इससे पहले कि वे दोनों एक-दूसरे को हाथ लगाएँ और जिस किसी को इसकी भी सामर्थ्य न हो तो साठ मुहताजों को भोजन कराना होगा। यह इसलिए कि तुम अल्लाह और उसके रसूल पर ईमानवाले सिद्ध हो सको। ये अल्लाह की निर्धारित की हुई सीमाएँ है। और इनकार करनेवाले के लिए दुखद यातना है

Tafseer (तफ़सीर )
إِنَّ
बेशक
ٱلَّذِينَ
वो लोग जो
يُحَآدُّونَ
मुख़ालिफ़त करते हैं
ٱللَّهَ
अल्लाह की
وَرَسُولَهُۥ
और उसके रसूल की
كُبِتُوا۟
वो ज़लील किए जाऐंगे
كَمَا
जैसा कि
كُبِتَ
ज़लील किए गए थे
ٱلَّذِينَ
वो लोग जो
مِن
उनसे पहले थे
قَبْلِهِمْۚ
उनसे पहले थे
وَقَدْ
और तहक़ीक़
أَنزَلْنَآ
नाज़िल कीं हमने
ءَايَٰتٍۭ
आयात
بَيِّنَٰتٍۚ
वाज़ेह
وَلِلْكَٰفِرِينَ
और काफ़िरों के लिए है
عَذَابٌ
अज़ाब
مُّهِينٌ
रुस्वा करने वाला

Inna allatheena yuhaddoona Allaha warasoolahu kubitoo kama kubita allatheena min qablihim waqad anzalna ayatin bayyinatin walilkafireena 'athabun muheenun

जो लोग अल्लाह और उसके रसूल का विरोध करते हैं, वे अपमानित और तिरस्कृत होकर रहेंगे, जैसे उनसे पहले के लोग अपमानित और तिरस्कृत हो चुके है। हमने स्पष्ट आयतें अवतरित कर दी है और इनकार करनेवालों के लिए अपमानजनक यातना है

Tafseer (तफ़सीर )
يَوْمَ
जिस दिन
يَبْعَثُهُمُ
उठाएगा उन्हें
ٱللَّهُ
अल्लाह
جَمِيعًا
सब के सब को
فَيُنَبِّئُهُم
फिर वो बताएगा उन्हें
بِمَا
वो जो
عَمِلُوٓا۟ۚ
उन्होंने अमल किए
أَحْصَىٰهُ
गिन रखा है उसे
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
وَنَسُوهُۚ
जब कि वो भूल चुके हैं उसे
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
عَلَىٰ
ऊपर
كُلِّ
हर
شَىْءٍ
चीज़ के
شَهِيدٌ
गवाह है

Yawma yab'athuhumu Allahu jamee'an fayunabbiohum bima 'amiloo ahsahu Allahu wanasoohu waAllahu 'ala kulli shayin shaheedun

जिस दिन अल्लाह उन सबको उठा खड़ा करेगा और जो कुछ उन्होंने किया होगा, उससे उन्हें अवगत करा देगा। अल्लाह ने उसकी गणना कर रखी है, और वे उसे भूले हुए है, और अल्लाह हर चीज़ का साक्षी है

Tafseer (तफ़सीर )
أَلَمْ
क्या नहीं
تَرَ
आपने देखा
أَنَّ
बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
يَعْلَمُ
वो जानता है
مَا
जो कुछ
فِى
आसमानों में है
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों में है
وَمَا
और जो कुछ
فِى
ज़मीन में है
ٱلْأَرْضِۖ
ज़मीन में है
مَا
नहीं
يَكُونُ
होती
مِن
कोई सरगोशी
نَّجْوَىٰ
कोई सरगोशी
ثَلَٰثَةٍ
तीन (लोगों) की
إِلَّا
मगर
هُوَ
वो
رَابِعُهُمْ
चौथा है उनका
وَلَا
और ना
خَمْسَةٍ
पाँच (लोगों) की
إِلَّا
मगर
هُوَ
वो
سَادِسُهُمْ
छठा है उनका
وَلَآ
और ना
أَدْنَىٰ
कम
مِن
इससे
ذَٰلِكَ
इससे
وَلَآ
और ना
أَكْثَرَ
ज़्यादा
إِلَّا
मगर
هُوَ
वो
مَعَهُمْ
साथ है उनके
أَيْنَ
जहाँ-कहीं
مَا
जहाँ-कहीं
كَانُوا۟ۖ
वो हों
ثُمَّ
फिर
يُنَبِّئُهُم
वो बताएगा उन्हें
بِمَا
जो
عَمِلُوا۟
उन्होंने अमल किए
يَوْمَ
दिन
ٱلْقِيَٰمَةِۚ
क़यामत के
إِنَّ
बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
بِكُلِّ
हर
شَىْءٍ
चीज़ को
عَلِيمٌ
ख़ूब जानने वाला है

Alam tara anna Allaha ya'lamu ma fee alssamawati wama fee alardi ma yakoonu min najwa thalathatin illa huwa rabi'uhum wala khamsatin illa huwa sadisuhum wala adna min thalika wala akthara illa huwa ma'ahum ayna ma kanoo thumma yunabbiohum bima 'amiloo yawma alqiyamati inna Allaha bikulli shayin 'aleemun

क्या तुमने इसको नहीं देखा कि अल्लाह जानता है जो कुछ आकाशों में है और जो कुछ धरती में है। कभी ऐसा नहीं होता कि तीन आदमियों की गुप्त वार्ता हो और उनके बीच चौथा वह (अल्लाह) न हो। और न पाँच आदमियों की होती है जिसमें छठा वह न होता हो। और न इससे कम की कोई होती है और न इससे अधिक की भी, किन्तु वह उनके साथ होता है, जहाँ कहीं भी वे हो; फिर जो कुछ भी उन्होंने किया होगा क़ियामत के दिन उससे वह उन्हें अवगत करा देगा। निश्चय ही अल्लाह को हर चीज़ का ज्ञान है

Tafseer (तफ़सीर )
أَلَمْ
क्या नहीं
تَرَ
आपने देखा
إِلَى
तरफ़
ٱلَّذِينَ
उन लोगों के जो
نُهُوا۟
रोके गए
عَنِ
सरगोशी से
ٱلنَّجْوَىٰ
सरगोशी से
ثُمَّ
फिर
يَعُودُونَ
वो लौटते हैं
لِمَا
तरफ़ उसके जो
نُهُوا۟
वो रोके गए थे
عَنْهُ
जिससे
وَيَتَنَٰجَوْنَ
और वो बाहम सरगोशियाँ करते हैं
بِٱلْإِثْمِ
गुनाह की
وَٱلْعُدْوَٰنِ
और ज़्यादाती की
وَمَعْصِيَتِ
और रसूल की नाफ़रमानी की
ٱلرَّسُولِ
और रसूल की नाफ़रमानी की
وَإِذَا
और जब
جَآءُوكَ
वो आते हैं आपके पास
حَيَّوْكَ
वो सलाम करते हैं आपको
بِمَا
साथ उसके जो
لَمْ
नहीं
يُحَيِّكَ
सलाम कहा आपको
بِهِ
साथ उसके
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
وَيَقُولُونَ
और वो कहते हैं
فِىٓ
अपने नफ़्सों में
أَنفُسِهِمْ
अपने नफ़्सों में
لَوْلَا
क्यों नहीं
يُعَذِّبُنَا
अज़ाब देता हमें
ٱللَّهُ
अल्लाह
بِمَا
बवजह उसके जो
نَقُولُۚ
हम कहते हैं
حَسْبُهُمْ
काफ़ी है उन्हें
جَهَنَّمُ
जहन्नम
يَصْلَوْنَهَاۖ
वो जलेंगे उसमें
فَبِئْسَ
पस कितनी बुरी है
ٱلْمَصِيرُ
लौटने जगह

Alam tara ila allatheena nuhoo 'ani alnnajwa thumma ya'oodoona lima nuhoo 'anhu wayatanajawna bialithmi waal'udwani wama'siyati alrrasooli waitha jaooka hayyawka bima lam yuhayyika bihi Allahu wayaqooloona fee anfusihim lawla yu'aththibuna Allahu bima naqoolu hasbuhum jahannamu yaslawnaha fabisa almaseeru

क्या तुमने नहीं देखा जिन्हें कानाफूसी से रोका गया था, फिर वे वही करते रहे जिससे उन्हें रोका गया था। वे आपस में गुनाह और ज़्यादती और रसूल की अवज्ञा की कानाफूसी करते है। और जब तुम्हारे पास आते है तो तुम्हारे प्रति अभिवादन के ऐसे शब्द प्रयोग में लाते है जो शब्द अल्लाह ने तुम्हारे लिए अभिवादन के लिए नहीं कहे। और अपने जी में कहते है, 'जो कुछ हम कहते है उसपर अल्लाह हमें यातना क्यों नहीं देता?' उनके लिए जहन्नम ही काफ़ी है जिसमें वे प्रविष्ट होंगे। वह तो बहुत बुरी जगह है, अन्त नें पहुँचने की!

Tafseer (तफ़सीर )
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगों जो
ٱلَّذِينَ
ऐ लोगों जो
ءَامَنُوٓا۟
ईमान लाए हो
إِذَا
जब
تَنَٰجَيْتُمْ
तुम बाहम सरगोशी करो
فَلَا
पस ना
تَتَنَٰجَوْا۟
तुम सरगोशी करो
بِٱلْإِثْمِ
गुनाह की
وَٱلْعُدْوَٰنِ
और ज़्यादती की
وَمَعْصِيَتِ
और रसूल की नाफ़रमानी की
ٱلرَّسُولِ
और रसूल की नाफ़रमानी की
وَتَنَٰجَوْا۟
बल्कि सरगोशी करो
بِٱلْبِرِّ
नेकी की
وَٱلتَّقْوَىٰۖ
और तक़्वा की
وَٱتَّقُوا۟
और डरो
ٱللَّهَ
अल्लाह से
ٱلَّذِىٓ
वो जो
إِلَيْهِ
तरफ़ उसके
تُحْشَرُونَ
तुम इकट्ठे किए जाओगे

Ya ayyuha allatheena amanoo itha tanajaytum fala tatanajaw bialithmi waal'udwani wama'siyati alrrasooli watanajaw bialbirri waalttaqwa waittaqoo Allaha allathee ilayhi tuhsharoona

ऐ ईमान लानेवालो! जब तुम आपस में गुप्त॥ वार्ता करो तो गुनाह और ज़्यादती और रसूल की अवज्ञा की गुप्त वार्ता न करो, बल्कि नेकी और परहेज़गारी के विषय में आपस में एकान्त वार्ता करो। और अल्लाह का डर रखो, जिसके पास तुम इकट्ठे होगे

Tafseer (तफ़सीर )
إِنَّمَا
बेशक
ٱلنَّجْوَىٰ
सरगोशी
مِنَ
शैतान की तरफ़ से है
ٱلشَّيْطَٰنِ
शैतान की तरफ़ से है
لِيَحْزُنَ
ताकि वो ग़मगीन करे
ٱلَّذِينَ
उनको जो
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए
وَلَيْسَ
हालाँकि नहीं वो
بِضَآرِّهِمْ
नुक़्सान देने वाले उन्हें
شَيْـًٔا
कुछ भी
إِلَّا
मगर
بِإِذْنِ
अल्लाह के इज़्न स
ٱللَّهِۚ
अल्लाह के इज़्न स
وَعَلَى
और अल्लाह ही पर
ٱللَّهِ
और अल्लाह ही पर
فَلْيَتَوَكَّلِ
पस चाहिए की तवक्कुल करें
ٱلْمُؤْمِنُونَ
मोमिन

Innama alnnajwa mina alshshaytani liyahzuna allatheena amanoo walaysa bidarrihim shayan illa biithni Allahi wa'ala Allahi falyatawakkali almuminoona

वह कानाफूसी तो केवल शैतान की ओर से है, ताकि वह उन्हें ग़म में डाले जो ईमान लाए है। हालाँकि अल्लाह की अवज्ञा के बिना उसे कुछ भी हानि पहुँचाने की सामर्थ्य प्राप्त नहीं। और ईमानवालों को तो अल्लाह ही पर भरोसा रखना चाहिए

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अल-मुजादिला
القرآن الكريم:المجادلة
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):Al-Mujadilah
सूरा:58
कुल आयत:22
कुल शब्द:473
कुल वर्ण:1792
रुकु:3
वर्गीकरण:मदीनन सूरा
Revelation Order:105
से शुरू आयत:5104