Skip to main content

अत-तलाक आयत १ | At-Talaq 65:1

O!
يَٰٓأَيُّهَا
Prophet!
ٱلنَّبِىُّ
नबी
When
إِذَا
जब
you divorce
طَلَّقْتُمُ
तलाक़ दो तुम
[the] women
ٱلنِّسَآءَ
औरतों को
then divorce them
فَطَلِّقُوهُنَّ
तो तलाक़ दो उन्हें
for their waiting period
لِعِدَّتِهِنَّ
उनकी इद्दत के लिए
and keep count
وَأَحْصُوا۟
और शुमार करो
(of) the waiting period
ٱلْعِدَّةَۖ
इद्दत को
and fear
وَٱتَّقُوا۟
और डरो
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह से
your Lord
رَبَّكُمْۖ
जो रब है तुम्हारा
(Do) not
لَا
ना तुम निकालो उन्हें
expel them
تُخْرِجُوهُنَّ
ना तुम निकालो उन्हें
from
مِنۢ
उनके घरों से
their houses
بُيُوتِهِنَّ
उनके घरों से
and not
وَلَا
और ना
they should leave
يَخْرُجْنَ
वो निकलें
except
إِلَّآ
मगर
that
أَن
ये कि
they commit
يَأْتِينَ
वो आऐं
an immorality
بِفَٰحِشَةٍ
बेहयाई को
clear
مُّبَيِّنَةٍۚ
खुली
And these
وَتِلْكَ
और ये
(are the) limits
حُدُودُ
हुदूद हैं
(of) Allah
ٱللَّهِۚ
अल्लाह की
And whoever
وَمَن
और जो कोई
transgresses
يَتَعَدَّ
तजावुज़ करेगा
(the) limits
حُدُودَ
हुदूद से
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह की
then certainly
فَقَدْ
तो तहक़ीक़
he has wronged
ظَلَمَ
उसने ज़ुल्म किया
himself
نَفْسَهُۥۚ
अपनी जान पर
Not
لَا
नहीं तुम जानते
you know
تَدْرِى
नहीं तुम जानते
Perhaps
لَعَلَّ
शायद कि
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
will bring about
يُحْدِثُ
वो पैदा कर दे
after
بَعْدَ
बाद
that
ذَٰلِكَ
उसके
a matter
أَمْرًا
कोई सूरत

Ya ayyuha alnnabiyyu itha tallaqtumu alnnisaa fatalliqoohunna li'iddatihinna waahsoo al'iddata waittaqoo Allaha rabbakum la tukhrijoohunna min buyootihinna wala yakhrujna illa an yateena bifahishatin mubayyinatin watilka hudoodu Allahi waman yata'adda hudooda Allahi faqad thalama nafsahu la tadree la'alla Allaha yuhdithu ba'da thalika amran

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

ऐ नबी! जब तुम लोग स्त्रियों को तलाक़ दो तो उन्हें तलाक़ उनकी इद्दत के हिसाब से दो। और इद्दत की गणना करो और अल्लाह का डर रखो, जो तुम्हारा रब है। उन्हें उनके घरों से न निकालो और न वे स्वयं निकलें, सिवाय इसके कि वे कोई स्पष्ट। अशोभनीय कर्म कर बैठें। ये अल्लाह की नियत की हुई सीमाएँ है - और जो अल्लाह की सीमाओं का उल्लंघन करे तो उसने स्वयं अपने आप पर ज़ुल्म किया - तुम नहीं जानते, कदाचित इस (तलाक़) के पश्चात अल्लाह कोई सूरत पैदा कर दे

English Sahih:

O Prophet, when you [Muslims] divorce women, divorce them for [the commencement of] their waiting period and keep count of the waiting period, and fear Allah, your Lord. Do not turn them out of their [husbands'] houses, nor should they [themselves] leave [during that period] unless they are committing a clear immorality. And those are the limits [set by] Allah. And whoever transgresses the limits of Allah has certainly wronged himself. You know not; perhaps Allah will bring about after that a [different] matter.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ऐ रसूल (मुसलमानों से कह दो) जब तुम अपनी बीवियों को तलाक़ दो तो उनकी इद्दत (पाकी) के वक्त तलाक़ दो और इद्दा का शुमार रखो और अपने परवरदिगार ख़ुदा से डरो और (इद्दे के अन्दर) उनके घर से उन्हें न निकालो और वह ख़ुद भी घर से न निकलें मगर जब वह कोई सरीही बेहयाई का काम कर बैठें (तो निकाल देने में मुज़ायका नहीं) और ये ख़ुदा की (मुक़र्रर की हुई) हदें हैं और जो ख़ुदा की हदों से तजाउज़ करेगा तो उसने अपने ऊपर आप ज़ुल्म किया तो तू नहीं जानता यायद ख़ुदा उसके बाद कोई बात पैदा करे (जिससे मर्द पछताए और मेल हो जाए)

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

हे नबी! जब तुम लोग त़लाक़ दो अपनी पत्नियों को, तो उन्हें तलाक़ दो उनकी 'इद्दत' के लिए, और गणना करो 'इद्दत' की तथा डरो अपने पालनहार अल्लाह से और न निकालो उन्हें उनके घरों से और न वह स्वयं निकलें, परन्तु ये कि वे कोई खुली बुराई कर जायें तथा ये अल्लाह की सीमायें हैं और जो उल्लंघन करेगा अल्लाह की सीमाओं का, तो उसने अत्याचार कर लया अपने ऊपर। तुम नहीं जानते संभवतः अल्लाह कोई नई बात उत्पन्न कर दे इसके पश्चात्।