Skip to main content

अत-तौबा आयत ७२ | At-Taubah 9:72

(Has been) promised
وَعَدَ
वादा किया
(by) Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
(to) the believing men
ٱلْمُؤْمِنِينَ
मोमिनों मर्दों से
and the believing women
وَٱلْمُؤْمِنَٰتِ
और मोमिन औरतों से
Gardens
جَنَّٰتٍ
बाग़ात का
flow
تَجْرِى
बहती हैं
from
مِن
उनके नीचे से
underneath it
تَحْتِهَا
उनके नीचे से
the rivers
ٱلْأَنْهَٰرُ
नहरें
(will) abide forever
خَٰلِدِينَ
हमेशा रहने वाले हैं
in it
فِيهَا
उनमें
and dwellings
وَمَسَٰكِنَ
और घर
blessed
طَيِّبَةً
पाकीज़ा
in
فِى
बाग़ात में
Gardens
جَنَّٰتِ
बाग़ात में
(of) everlasting bliss
عَدْنٍۚ
अदन के
But the pleasure
وَرِضْوَٰنٌ
और रज़ामन्दी
of
مِّنَ
अल्लाह की तरफ़ से
Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह की तरफ़ से
(is) greater
أَكْبَرُۚ
सबसे बड़ी है
That
ذَٰلِكَ
यही
it
هُوَ
वो
(is) the success
ٱلْفَوْزُ
कामयाबी है
great
ٱلْعَظِيمُ
बहुत बड़ी

Wa'ada Allahu almumineena waalmuminati jannatin tajree min tahtiha alanharu khalideena feeha wamasakina tayyibatan fee jannati 'adnin waridwanun mina Allahi akbaru thalika huwa alfawzu al'atheemu

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

मोमिन मर्दों और मोमिन औरतों से अल्लाह ने ऐसे बाग़ों का वादा किया है जिनके नीचे नहरें बह रही होंगी, जिनमें वे सदैव रहेंगे और सदाबहार बाग़ों में पवित्र निवास गृहों का (भी वादा है) और, अल्लाह की प्रसन्नता और रज़ामन्दी का; जो सबसे बढ़कर है। यही सबसे बड़ी सफलता है

English Sahih:

Allah has promised the believing men and believing women gardens beneath which rivers flow, wherein they abide eternally, and pleasant dwellings in gardens of perpetual residence; but approval from Allah is greater. It is that which is the great attainment.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ख़ुदा ने ईमानदार मर्दों और ईमानदारा औरतों से (बेहश्त के) उन बाग़ों का वायदा कर लिया है जिनके नीचे नहरें जारी हैं और वह उनमें हमेशा रहेगें (बेहश्त) अदन के बाग़ो में उम्दा उम्दा मकानात का (भी वायदा फरमाया) और ख़ुदा की ख़ुशनूदी उन सबसे बालातर है- यही तो बड़ी (आला दर्जे की) कामयाबी है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

अल्लाह ने ईमान वाले पुरुषों तथा ईमान वाली स्त्रियों को ऐसे स्वर्गों का वचन दिया है, जिनमें नहरें प्रवाहित होंगी, वे उनमें सदावासी होंगे और स्थायी स्वर्गों में, पवित्र आवासों का। और अल्लाह की प्रसन्नता इनसबसे बड़ा प्रदान होगी, यही बहुत बड़ी सफलता है।