Skip to main content
Then is he who
أَفَمَن
क्या भला वो शख़्स जो
is
كَانَ
हो
on
عَلَىٰ
एक वाज़ेह दलील पर
a clear proof
بَيِّنَةٍ
एक वाज़ेह दलील पर
from
مِّن
अपने रब की तरफ़ से
his Lord
رَّبِّهِۦ
अपने रब की तरफ़ से
and recites it
وَيَتْلُوهُ
और पीछे आता हो उसके
a witness
شَاهِدٌ
एक गवाह
from Him
مِّنْهُ
उसकी तरफ़ से
and before it
وَمِن
और उससे पहले थी
and before it
قَبْلِهِۦ
और उससे पहले थी
(was) a Book
كِتَٰبُ
किताब
(of) Musa
مُوسَىٰٓ
मूसा की
(as) a guide
إِمَامًا
इमाम/रहनुमा
and (as) mercy?
وَرَحْمَةًۚ
और रहमत
Those
أُو۟لَٰٓئِكَ
यही लोग हैं
believe
يُؤْمِنُونَ
जो ईमान रखते हैं
in it
بِهِۦۚ
उस पर
But whoever
وَمَن
और जो कोई
disbelieves
يَكْفُرْ
कुफ़्र करेगा
in it
بِهِۦ
उसका
among
مِنَ
गिरोहों में से
the sects
ٱلْأَحْزَابِ
गिरोहों में से
then the Fire
فَٱلنَّارُ
तो आग
(will be) his promised (meeting) place
مَوْعِدُهُۥۚ
उसकी वादागाह है
So (do) not
فَلَا
पस ना
be
تَكُ
हों आप
in
فِى
किसी शक में
doubt
مِرْيَةٍ
किसी शक में
about it
مِّنْهُۚ
उससे
Indeed, it
إِنَّهُ
बेशक वो
(is) the truth
ٱلْحَقُّ
हक़ है
from
مِن
आपके रब की तरफ़ से
your Lord
رَّبِّكَ
आपके रब की तरफ़ से
but
وَلَٰكِنَّ
और लेकिन
most
أَكْثَرَ
अक्सर
(of) the people
ٱلنَّاسِ
लोग
(do) not
لَا
नहीं वो ईमान लाते
believe
يُؤْمِنُونَ
नहीं वो ईमान लाते

Afaman kana 'ala bayyinatin min rabbihi wayatloohu shahidun minhu wamin qablihi kitabu moosa imaman warahmatan olaika yuminoona bihi waman yakfur bihi mina alahzabi faalnnaru maw'iduhu fala taku fee miryatin minhu innahu alhaqqu min rabbika walakinna akthara alnnasi la yuminoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

फिर क्या वह व्यक्ति जो अपने रब के एक स्पष्ट प्रमाण पर है और स्वयं उसके रूप में भी एक गवाह उसके साथ-साथ रहता है - और इससे पहले मूसा की किताब भी एक मार्गदर्शक और दयालुता के रूप में उपस्थित रही है- (और वह जो प्रकाश एवं मार्गदर्शन से वंचित है, दोनों बराबर हो सकते है) ऐसे ही लोग उसपर ईमान लाते है, किन्तु इन गिरोहों में से जो उसका इनकार करेगा तो उसके लिए जिस जगह का वादा है, वह तो आग है। अतः तुम्हें इसके विषय में कोई सन्देह न हो। यह तुम्हारे रब की ओर से सत्य है, किन्तु अधिकतर लोग मानते नहीं

English Sahih:

So is one who [stands] upon a clear evidence from his Lord [like the aforementioned]? And a witness from Him follows it, and before it was the Scripture of Moses to lead and as mercy. Those [believers in the former revelations] believe in it [i.e., the Quran]. But whoever disbelieves in it from the [various] factions – the Fire is his promised destination. So be not in doubt about it. Indeed, it is the truth from your Lord, but most of the people do not believe.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तो क्या जो शख़्श अपने परवरदिगार की तरफ से रौशन दलील पर हो और उसके पीछे ही पीछे उनका एक गवाह हो और उसके क़बल मूसा की किताब (तौरैत) जो (लोगों के लिए) पेशवा और रहमत थी (उसकी तसदीक़ करती हो वह बेहतर है या कोई दूसरा) यही लोग सच्चे ईमान लाने वाले और तमाम फिरक़ों में से जो शख़्श भी उसका इन्कार करे तो उसका ठिकाना बस आतिश (जहन्नुम) है तो फिर तुम कहीं उसकी तरफ से शक़ में न पड़े रहना, बेशक ये क़ुरान तुम्हारे परवरदिगार की तरफ़ से बरहक़ है मगर बहुतेरे लोग ईमान नही लाते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तो क्या जो अपने पालनहार की ओर से स्पष्ट प्रमाण[1] रखता हो और उसके साथ ही एक गवाह (साक्षी)[1] भी उसकी ओर से आ गया हो और इससे पहले मूसा की पुस्तक मार्गदर्शक तथा दया बनकर आ चुकी हो, ऐसे लोग तो इस (क़ुर्आन) पर ईमान रखते हैं और सम्प्रदायों मेंसे, जो इसे अस्वीकार करेगा, तो नरक ही उसका वचन-स्थान है। अतः आप, इसके बारे में किसी संदेह में न पड़ें। वास्तव में, ये आपके पालनहार की ओर से सत्य है। परन्तु अधिक्तर लोग ईमान (विश्वास) नहीं रखते।