Skip to main content

युसूफ आयत २१ | Yusuf 12:21

And said
وَقَالَ
और कहा उस शख़्स ने
the one who
ٱلَّذِى
जिसने
bought him
ٱشْتَرَىٰهُ
ख़रीदा था उसे
of
مِن
मिस्र से
Egypt
مِّصْرَ
मिस्र से
to his wife
لِٱمْرَأَتِهِۦٓ
अपनी बीवी को
"Make comfortable
أَكْرِمِى
बाइज़्ज़त कर
his stay
مَثْوَىٰهُ
ठिकाना इसका
Perhaps
عَسَىٰٓ
उम्मीद है
that
أَن
कि
(he) will benefit us
يَنفَعَنَآ
वो नफ़ा देगा हमें
or
أَوْ
या
we will take him
نَتَّخِذَهُۥ
हम बना लेंगे उसे
(as) a son"
وَلَدًاۚ
बेटा
And thus
وَكَذَٰلِكَ
और इसी तरह
We established
مَكَّنَّا
जगह दी हमने
Yusuf
لِيُوسُفَ
यूसुफ को
in
فِى
ज़मीन में
the land
ٱلْأَرْضِ
ज़मीन में
that We might teach him
وَلِنُعَلِّمَهُۥ
और ताकि हम सिखाऐं उसे
(the) interpretation of
مِن
हक़ीक़त में से
(the) interpretation of
تَأْوِيلِ
हक़ीक़त में से
the events
ٱلْأَحَادِيثِۚ
बातों की
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
(is) Predominant
غَالِبٌ
ग़ालिब है
over
عَلَىٰٓ
अपने काम पर
His affairs
أَمْرِهِۦ
अपने काम पर
but
وَلَٰكِنَّ
और लेकिन
most
أَكْثَرَ
अक्सर
(of) the people
ٱلنَّاسِ
लोग
(do) not
لَا
नहीं वो इल्म रखते
know
يَعْلَمُونَ
नहीं वो इल्म रखते

Waqala allathee ishtarahu min misra liimraatihi akrimee mathwahu 'asa an yanfa'ana aw nattakhithahu waladan wakathalika makkanna liyoosufa fee alardi walinu'allimahu min taweeli alahadeethi waAllahu ghalibun 'ala amrihi walakinna akthara alnnasi la ya'lamoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

मिस्र के जिस व्यक्ति ने उसे ख़रीदा, उसने अपनी स्त्री से कहा, 'इसको अच्छी तरह रखना। बहुत सम्भव है कि यह हमारे काम आए या हम इसे बेटा बना लें।' इस प्रकार हमने उस भूभाग में यूसुफ़ के क़दम जमाने की राह निकाली (ताकि उसे प्रतिष्ठा प्रदान करें) और ताकि मामलों और बातों के परिणाम से हम उसे अवगत कराएँ। अल्लाह तो अपना काम करके रहता है, किन्तु अधिकतर लोग जानते नहीं

English Sahih:

And the one from Egypt who bought him said to his wife, "Make his residence comfortable. Perhaps he will benefit us, or we will adopt him as a son." And thus, We established Joseph in the land that We might teach him the interpretation of events [i.e., dreams]. And Allah is predominant over His affair, but most of the people do not know.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(यूसुफ को लेकर मिस्र पहुँचे और वहाँ उसे बड़े नफे में बेच डाला) और मिस्र के लोगों से (अज़ीजे मिस्र) जिसने (उनको ख़रीदा था अपनी बीवी (ज़ुलेख़ा) से कहने लगा इसको इज्ज़त व आबरु से रखो अजब नहीं ये हमें कुछ नफा पहुँचाए या (शायद) इसको अपना बेटा ही बना लें और यू हमने यूसुफ को मुल्क (मिस्र) में (जगह देकर) क़ाबिज़ बनाया और ग़रज़ ये थी कि हमने उसे ख्वाब की बातों की ताबीर सिखायी और ख़ुदा तो अपने काम पर (हर तरह के) ग़ालिब व क़ादिर है मगर बहुतेरे लोग (उसको) नहीं जानते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और मिस्र के जिस व्यक्ति ने उसे खरीदा, उसने अपनी पत्नी से कहाः इसे आदर-मान से रखो। संभव है ये हमें लाभ पहुँचाये, अथवा हम इसे अपना पुत्र बना लें। इस प्रकार उसे हमने स्थान दिया और ताकि उसे बातों का अर्थ सिखायें और अल्लाह अपना आदेश पूरा करके रहता है। परन्तु अधिक्तर लोग जानते नहीं हैं।