Skip to main content

युसूफ आयत ७६ | Yusuf 12:76

So he began
فَبَدَأَ
पस उसने शुरू किया
with their bags
بِأَوْعِيَتِهِمْ
उनके थैलों/ख़ुरजियों से
before
قَبْلَ
पहले
(the) bag
وِعَآءِ
थैले/ख़ुरजी से
(of) his brother
أَخِيهِ
अपने भाई के
then
ثُمَّ
फिर
he brought it out
ٱسْتَخْرَجَهَا
उसने निकाल लिया उसे
from
مِن
थैले/ख़ुरजी से
(the) bag
وِعَآءِ
थैले/ख़ुरजी से
(of) his brother
أَخِيهِۚ
अपने भाई के
Thus
كَذَٰلِكَ
इसी तरह
(did) We plan
كِدْنَا
तदबीर की हमने
for Yusuf
لِيُوسُفَۖ
यूसुफ़ के लिए
He could not
مَا
ना
He could not
كَانَ
था वो
take
لِيَأْخُذَ
कि वो पकड़ सके
his brother
أَخَاهُ
अपने भाई को
by
فِى
दीन/क़ानून में
the law
دِينِ
दीन/क़ानून में
(of) the king
ٱلْمَلِكِ
बादशाह के
except
إِلَّآ
मगर
that
أَن
ये कि
Allah willed
يَشَآءَ
जो चाहे
Allah willed
ٱللَّهُۚ
अल्लाह
We raise
نَرْفَعُ
हम बुलंद करते हैं
(in) degrees
دَرَجَٰتٍ
दरजात
whom
مَّن
जिसके
We will
نَّشَآءُۗ
हम चाहते हैं
but over
وَفَوْقَ
और ऊपर
every
كُلِّ
हर
possessor
ذِى
इल्म वाले के
(of) knowledge
عِلْمٍ
इल्म वाले के
(is) the All-Knower
عَلِيمٌ
एक ख़ूब इल्म वाला है

Fabadaa biaw'iyatihim qabla wi'ai akheehi thumma istakhrajaha min wi'ai akheehi kathalika kidna liyoosufa ma kana liyakhutha akhahu fee deeni almaliki illa an yashaa Allahu narfa'u darajatin man nashao wafawqa kulli thee 'ilmin 'aleemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

फिर उसके भाई की खुरजी से पहले उनकी ख़ुरजियाँ देखनी शुरू की; फिर उसके भाई की ख़ुरजी से उसे बरामद कर लिया। इस प्रकार हमने यूसुफ़ का उपाय किया। वह शाही क़ानून के अनुसार अपने भाई को प्राप्त नहीं कर सकता था। बल्कि अल्लाह ही की इच्छा लागू है। हम जिसको चाहे उसके दर्जे ऊँचे कर दें। और प्रत्येक ज्ञानवान से ऊपर एक ज्ञानवान मौजूद है

English Sahih:

So he began [the search] with their bags before the bag of his brother; then he extracted it from the bag of his brother. Thus did We plan for Joseph. He could not have taken his brother within the religion [i.e., law] of the king except that Allah willed. We raise in degrees whom We will, but over every possessor of knowledge is one [more] knowing.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

हम लोग तो (अपने यहाँ) ज़ालिमों (चोरों) को इसी तरह सज़ा दिया करते हैं ग़रज़ यूसुफ ने अपने भाई का थैला खोलने ने से क़ब्ल दूसरे भाइयों के थैलों से (तलाशी) शुरू की उसके बाद (आख़िर में) उस प्याले को यूसुफ ने अपने भाई के थैले से बरामद किया यूसुफ को भाई के रोकने की हमने यू तदबीर बताइ वरना (बादशाह मिस्र) के क़ानून के मुवाफिक़ अपने भाई को रोक नहीं सकते थे मगर हाँ जब ख़ुदा चाहे हम जिसे चाहते हैं उसके दर्जे बुलन्द कर देते हैं और (दुनिया में) हर साहबे इल्म से बढ़कर एक और आलिम है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

फिर उसने खोज का आरंभ उस (यूसुफ़) के भाई की बोरी से पहले, उनकी बोरियों से किया। फिर उसे उस (बिनयामीन) की बोरी से निकाल लिया। इस प्रकार, हमने यूसुफ़ के लिए उपाय किया। वह राजा के नियमानुसार अपने भाई को नहीं रख सकता था, परन्तु ये कि अल्लाह चाहता। हम जिसका चाहें मान सम्मान ऊँचा कर देते हैं और प्रत्येक ज्ञानी से ऊपर एक बड़ा ज्ञानी[1] है।