Skip to main content

इब्राहीम आयत १० | Ibrahim 14:10

Said
قَالَتْ
कहा
their Messengers
رُسُلُهُمْ
उनके रसूलों ने
"Can (there) be about
أَفِى
क्या अल्लाह के बारे में
Allah
ٱللَّهِ
क्या अल्लाह के बारे में
any doubt
شَكٌّ
शक है
(the) Creator
فَاطِرِ
जो पैदा करने वाला है
(of) the heavens
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों
and the earth?
وَٱلْأَرْضِۖ
और ज़मीन का
He invites you
يَدْعُوكُمْ
वो बुलाता है तुम्हें
so that He may forgive
لِيَغْفِرَ
ताकि वो बख़्श दे
for you
لَكُم
तुम्हारे लिए
[of]
مِّن
तुम्हारे गुनाहों को
your sins
ذُنُوبِكُمْ
तुम्हारे गुनाहों को
and give you respite
وَيُؤَخِّرَكُمْ
और वो मोहलत दे तुम्हें
for
إِلَىٰٓ
एक मुक़र्रर मुद्दत तक
a term
أَجَلٍ
एक मुक़र्रर मुद्दत तक
appointed"
مُّسَمًّىۚ
एक मुक़र्रर मुद्दत तक
They said
قَالُوٓا۟
उन्होंने कहा
"Not
إِنْ
नहीं हो
you
أَنتُمْ
तुम
(are) but
إِلَّا
मगर
a human
بَشَرٌ
एक इन्सान
like us
مِّثْلُنَا
हम जैसे
you wish
تُرِيدُونَ
तुम चाहते हो
to
أَن
कि
hinder us
تَصُدُّونَا
तुम रोको हमें
from what
عَمَّا
उससे जो
used to
كَانَ
थे
worship
يَعْبُدُ
इबादत करते
our forefathers
ءَابَآؤُنَا
आबा ओ अजदाद हमारे
So bring us
فَأْتُونَا
पस ले आओ हमारे पास
an authority
بِسُلْطَٰنٍ
कोई दलील
clear"
مُّبِينٍ
वाज़ेह

Qalat rusuluhum afee Allahi shakkun fatiri alssamawati waalardi yad'ookum liyaghfira lakum min thunoobikum wayuakhkhirakum ila ajalin musamman qaloo in antum illa basharun mithluna tureedoona an tasuddoona 'amma kana ya'budu abaona fatoona bisultanin mubeenin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

उनके रसूलों ने कहो, 'क्या अल्लाह के विषय में संदेह है, जो आकाशों और धरती का रचयिता है? वह तो तुम्हें इसलिए बुला रहा है, ताकि तुम्हारे गुनाहों को क्षमा कर दे और तुम्हें एक नियत समय तक मुहल्ल दे।' उन्होंने कहा, 'तुम तो बस हमारे ही जैसे एक मनुष्य हो, चाहते हो कि हमें उनसे रोक दो जिनकी पूजा हमारे बाप-दादा करते आए है। अच्छा, तो अब हमारे सामने कोई स्पष्ट प्रमाण ले आओ।'

English Sahih:

Their messengers said, "Can there be doubt about Allah, Creator of the heavens and earth? He invites you that He may forgive you of your sins, and He delays you [i.e., your death] for a specified term." They said, "You are not but men like us who wish to avert us from what our fathers were worshipping. So bring us a clear authority [i.e., evidence]."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(तब) उनके पैग़म्बरों ने (उनसे) कहा क्या तुम को ख़ुदा के बारे में शक़ है जो सारे आसमान व ज़मीन का पैदा करने वाला (और) वह तुमको अपनी तरफ बुलाता भी है तो इसलिए कि तुम्हारे गुनाह माफ कर दे और एक वक्त मुक़र्रर तक तुमको (दुनिया में चैन से) रहने दे वह लोग बोल उठे कि तुम भी बस हमारे ही से आदमी हो (अच्छा) अब समझे तुम ये चाहते हो कि जिन माबूदों की हमारे बाप दादा परसतिश करते थे तुम हमको उनसे बाज़ रखो अच्छा अगर तुम सच्चे हो तो कोई साफ खुला हुआ सरीही मौजिज़ा हमे ला दिखाओ

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

उनके रसूलों ने कहाः क्या उस अल्लाह के बारे में संदेह है, जो आकाशों तथा धरती का रचयिता है। वह तुम्हें बुला[1] रहा है, ताकि तुम्हारे पाप क्षमा कर दे और तुम्हें एक निर्धारित[2] अवधि तक अवसर दे। उन्होंने कहाः तो तुम हमारे ही जैसे एक मानव पुरुष हो, तुम चाहते हो कि हमें उससे रोक दो, जिसकी पूजा हमारे बाप-दादा कर रहे थे। तुम हमारे पास कोई प्रत्यक्ष प्रमान लाओ।