Skip to main content

अल बकराह आयत १०४ | Al-Baqrah 2:104

O you
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगो जो
who
ٱلَّذِينَ
ऐ लोगो जो
believe[d]!
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए हो
"(Do) not
لَا
ना तुम कहो
say
تَقُولُوا۟
ना तुम कहो
"Raina"
رَٰعِنَا
राइना/रिआयत कीजिए हमारी
and say
وَقُولُوا۟
बल्कि कहो
"Unzurna"
ٱنظُرْنَا
उन्ज़ुरना/नज़र कीजिए हमारी तरफ़
and listen
وَٱسْمَعُوا۟ۗ
और सुना करो
And for the disbelievers
وَلِلْكَٰفِرِينَ
और काफ़िरों के लिए
(is) a punishment
عَذَابٌ
अज़ाब है
painful
أَلِيمٌ
दर्दनाक

Ya ayyuha allatheena amanoo la taqooloo ra'ina waqooloo onthurna waisma'oo walilkafireena 'athabun aleemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

ऐ ईमान लानेवालो! 'राइना' न कहा करो, बल्कि 'उनज़ुरना' कहा और सुना करो। और इनकार करनेवालों के लिए दुखद यातना है

English Sahih:

O you who have believed, say not [to Allah's Messenger], "Ra’ina" but say, "Unzurna" and listen. And for the disbelievers is a painful punishment.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ऐ ईमानवालों तुम (रसूल को अपनी तरफ मुतावज्जे करना चाहो तो) रआना (हमारी रिआयत कर) न कहा करो बल्कि उनज़ुरना (हम पर नज़रे तवज्जो रख) कहा करो और (जी लगाकर) सुनते रहो और काफिरों के लिए दर्दनाक अज़ाब है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

हे ईमान वालो! तुम 'राइना'[1] न कहो, 'उन्ज़ुरना' कहो और ध्यान से बात सुनो तथा काफ़िरों के लिए दुखदायी यातना है।