Skip to main content

अत-तहा आयत २७ | At-Tahaa 20:27

And untie
وَٱحْلُلْ
और खोल दे
(the) knot
عُقْدَةً
गिरह
from
مِّن
मेरी ज़बान की
my tongue
لِّسَانِى
मेरी ज़बान की

Waohlul 'uqdatan min lisanee

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और मेरी ज़बान की गिरह खोल दे।

English Sahih:

And untie the knot from my tongue

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और दिलेर बना और मेरा काम मेरे लिए आसान कर दे और मेरी ज़बान से लुक़नत की गिरह खोल दे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और खोल दे, मेरी ज़ुबान की गाँठ।