Skip to main content

अत-तहा आयत ४० | At-Tahaa 20:40

When
إِذْ
जब
was going
تَمْشِىٓ
चलती थी
your sister
أُخْتُكَ
बहन तेरी
and she said
فَتَقُولُ
फिर वो कहती थी
"Shall
هَلْ
क्या
I show you
أَدُلُّكُمْ
मैं रहनुमाई करुँ तुम्हारी
[to]
عَلَىٰ
उस पर जो
(one) who
مَن
उस पर जो
will nurse and rear him'?"
يَكْفُلُهُۥۖ
किफ़ालत करेगा इसकी
So We returned you
فَرَجَعْنَٰكَ
तो लौटा दिया हमने तुझे
to
إِلَىٰٓ
तरफ़ तेरी माँ के
your mother
أُمِّكَ
तरफ़ तेरी माँ के
that
كَىْ
ताकि ठन्डी हो
may be cooled
تَقَرَّ
ताकि ठन्डी हो
her eyes
عَيْنُهَا
आँख उसकी
and not
وَلَا
और ना
she grieves
تَحْزَنَۚ
वो ग़म करे
And you killed
وَقَتَلْتَ
और क़त्ल किया था तूने
a man
نَفْسًا
एक जान को
but We saved you
فَنَجَّيْنَٰكَ
तो निजात दी हमने तुझे
from
مِنَ
ग़म से
the distress
ٱلْغَمِّ
ग़म से
and We tried you
وَفَتَنَّٰكَ
और आज़माया था हमने तुझे
(with) a trial
فُتُونًاۚ
ख़ूब आज़माना
Then you remained
فَلَبِثْتَ
फिर ठहरा रहा तू
(some) years
سِنِينَ
कई साल
with
فِىٓ
अहले मदयन में
(the) people
أَهْلِ
अहले मदयन में
(of) Madyan
مَدْيَنَ
अहले मदयन में
Then
ثُمَّ
फिर
you came
جِئْتَ
आ गया तू
at
عَلَىٰ
मुकर्रर अंदाज़े पर
the decreed (time)
قَدَرٍ
मुकर्रर अंदाज़े पर
O Musa!
يَٰمُوسَىٰ
ऐ मूसा

Ith tamshee okhtuka fataqoolu hal adullukum 'ala man yakfuluhu faraja'naka ila ommika kay taqarra 'aynuha wala tahzana waqatalta nafsan fanajjaynaka mina alghammi wafatannaka futoonan falabithta sineena fee ahli madyana thumma jita 'ala qadarin ya moosa

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

याद कर जबकि तेरी बहन जाती और कहती थी, क्या मैं तुम्हें उसका पता बता दूँ जो इसका पालन-पोषण अपने ज़िम्मे ले ले? इस प्रकार हमने फिर तुझे तेरी माँ के पास पहुँचा दिया, ताकि उसकी आँख ठंड़ी हो और वह शोकाकुल न हो। और हमने तुझे भली-भाँति परखा। फिर तू कई वर्ष मदयन के लोगों में ठहरा रहा। फिर ऐ मूसा! तू ख़ास समय पर आ गया है

English Sahih:

[And We favored you] when your sister went and said, 'Shall I direct you to someone who will be responsible for him?' So We restored you to your mother that she might be content and not grieve. And you killed someone, but We saved you from retaliation and tried you with a [severe] trial. And you remained [some] years among the people of Madyan. Then you came [here] at the decreed time, O Moses.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(उस वक्त) ज़ब तुम्हारी बहन चली (और फिर उनके घर में आकर) कहने लगी कि कहो तो मैं तुम्हें ऐसी दाया बताऊँ कि जो इसे अच्छी तरह पाले तो (इस तदबीर से) हमने फिर तुमको तुम्हारी माँ के पास पहुँचा दिया ताकि उसकी ऑंखें ठन्डी रहें और तुम्हारी (जुदाई पर) कुढ़े नहीं और तुमने एक शख्स (क़िबती) को मार डाला था और सख्त परेशान थे तो हमने तुमको (इस) ग़म से नजात दी और हमने तुम्हारा अच्छी तरह इम्तिहान कर लिया फिर तुम कई बरस तक मदयन के लोगों में जाकर रहे ऐ मूसा फिर तुम (उम्र के) एक अन्दाजे पर आ गए नबूवत के क़ायल हुए

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

जब चल रही थी तेरी बहन[1], फिर कह रही थीः क्या मैं तुम्हें उसे बता दूँ, जो इसका लालन-पालन करे? फिर हमने पुनः तुम्हें पहुँचा दिया तुम्हारी माँ के पास, ताकि उसकी आँख ठण्डी हो और उदासीन न हो तथा हे मूसा! तूने मार दिया एक व्यक्ति को, तो हमने तुझे मुक्त कर दिया चिन्ता[2] से और हमने तेरी भली-भाँति परीक्षा ली। फिर तू रह गया वर्षों मद्यन के लोगों में, फिर तू (मद्यन से) अपने निश्चित समय पर आ गया।