Skip to main content

आले इमरान आयत १६५ | Aal-e-Imran 3:165

Or
أَوَلَمَّآ
क्या भला जब
when
أَصَٰبَتْكُم
पहुँची तुम्हें
struck you
مُّصِيبَةٌ
एक मुसीबत
disaster
قَدْ
तहक़ीक़
surely
أَصَبْتُم
पहुँचाई तुमने
you had struck (them)
مِّثْلَيْهَا
उससे दोगुनी
twice of it
قُلْتُمْ
कहा तुमने
you said
أَنَّىٰ
कहाँ से (आई)
"From where
هَٰذَاۖ
ये
(is) this?"
قُلْ
कह दीजिए
Say
هُوَ
वो
"It
مِنْ
तुम्हारे नफ़्सों की जानिब से है
(is) from
عِندِ
तुम्हारे नफ़्सों की जानिब से है
yourselves"
أَنفُسِكُمْۗ
तुम्हारे नफ़्सों की जानिब से है
Indeed
إِنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
(is) on
عَلَىٰ
ऊपर
every
كُلِّ
हर
thing
شَىْءٍ
चीज़ के
All-Powerful
قَدِيرٌ
ख़ूब क़ुदरत रखने वाला है

Awalamma asabatkum museebatun qad asabtum mithlayha qultum anna hatha qul huwa min 'indi anfusikum inna Allaha 'ala kulli shayin qadeerun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यह क्या कि जब तुम्हें एक मुसीबत पहुँची, जिसकी दोगुनी तुमने पहुँचाए, तो तुम कहने लगे कि, 'यह कहाँ से आ गई?' कह दो, 'यह तो तुम्हारी अपनी ओर से है, अल्लाह को हर चीज़ की सामर्थ्य प्राप्त है।'

English Sahih:

Why [is it that] when a [single] disaster struck you [on the day of Uhud], although you had struck [the enemy in the battle of Badr] with one twice as great, you said, "From where is this?" Say, "It is from yourselves [i.e., due to your sin]." Indeed, Allah is over all things competent.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

मुसलमानों क्या जब तुमपर (जंगे ओहद) में वह मुसीबत पड़ी जिसकी दूनी मुसीबत तुम (कुफ्फ़ार पर) डाल चुके थे तो (घबरा के) कहने लगे ये (आफ़त) कहॉ से आ गयी (ऐ रसूल) तुम कह दो कि ये तो खुद तुम्हारी ही तरफ़ से है (न रसूल की मुख़ालेफ़त करते न सज़ा होती) बेशक ख़ुदा हर चीज़ पर क़ादिर है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा जब तुम्हें एक दुःख पहुँचा,[1] जबकि इसके दुगना (दुःख) तुमने (उन्हें) पहुँचाया है[2], तो तुमने कह दिया कि ये कहाँ से आ गया? (हे नबी!) कह दोः ये तुम्हारे पास से[3] आया है। वास्तव में, अल्लाह जो चाहे, कर सकता है।