Skip to main content

अन-निसा आयत १४९ | An-Nisa 4:149

If
إِن
अगर
you disclose
تُبْدُوا۟
तुम ज़ाहिर करो
a good
خَيْرًا
कोई नेकी
or
أَوْ
या
you conceal it
تُخْفُوهُ
तुम छुपाओ उसे
or
أَوْ
या
pardon
تَعْفُوا۟
तुम दरगुज़र करो
[of]
عَن
किसी बुराई से
an evil
سُوٓءٍ
किसी बुराई से
then indeed
فَإِنَّ
तो बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
is
كَانَ
है
Oft-Pardoning
عَفُوًّا
बहुत माफ़ करने वाला
All-Powerful
قَدِيرًا
बहुत क़ुदरत रखने वाला

In tubdoo khayran aw tukhfoohu aw ta'foo 'an sooin fainna Allaha kana 'afuwwan qadeeran

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यदि तुम खुले रूप में नेकी और भलाई करो या उसे छिपाओ या किसी बुराई को क्षमा कर दो, तो अल्लाह भी क्षमा करनेवाला, सामर्थ्यवान है

English Sahih:

If [instead] you show [some] good or conceal it or pardon an offense – indeed, Allah is ever Pardoning and Competent.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

अगर खुल्लम खुल्ला नेकी करते हो या छिपा कर या किसी की बुराई से दरगुज़र करते हो तो तो ख़ुदा भी बड़ा दरगुज़र करने वाला (और) क़ादिर है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

यदि तुमकोई भली बात खुल कर करो, उसे छुपाकर करो या किसी बुराई को क्षमा कर दो, (याद रखो कि) निःसंदेह अललाह अति क्षमी, सर्व शक्तिशाली है।