Skip to main content

अन-निसा आयत ६ | An-Nisa 4:6

And test
وَٱبْتَلُوا۟
और आज़माते रहो
the orphans
ٱلْيَتَٰمَىٰ
यतीमों को
until
حَتَّىٰٓ
यहाँ तक कि
[when]
إِذَا
जब
they reach[ed]
بَلَغُوا۟
वो पहुँच जाऐं
(the age of) marriage
ٱلنِّكَاحَ
निकाह की (उम्र को)
then if
فَإِنْ
फिर अगर
you perceive
ءَانَسْتُم
पाओ तुम
in them
مِّنْهُمْ
उनमें
sound judgement
رُشْدًا
समझ बूझ
then deliver
فَٱدْفَعُوٓا۟
तो दे दो
to them
إِلَيْهِمْ
उन्हें
their wealth
أَمْوَٰلَهُمْۖ
माल उनके
And (do) not
وَلَا
और ना
eat it
تَأْكُلُوهَآ
तुम खाओ
extravagantly
إِسْرَافًا
इसराफ़ करते हुए
and hastily
وَبِدَارًا
और जल्दी करते हुए
(fearing) that
أَن
कि
they will grow up
يَكْبَرُوا۟ۚ
वो बड़े हो जाऐंगे
And whoever
وَمَن
और जो कोई
is
كَانَ
हो
rich
غَنِيًّا
ग़नी
then he should refrain
فَلْيَسْتَعْفِفْۖ
पस चाहिए कि वो बचे
and whoever
وَمَن
और जो कोई
is
كَانَ
हो
poor
فَقِيرًا
मोहताज
then let him eat (of it)
فَلْيَأْكُلْ
पस चाहिए कि वो खाए
in a fair manner
بِٱلْمَعْرُوفِۚ
भले तरीक़े से
Then when
فَإِذَا
फिर जब
you deliver
دَفَعْتُمْ
दे दो तुम
to them
إِلَيْهِمْ
उन्हें
their wealth
أَمْوَٰلَهُمْ
माल उनके
then take witnesses
فَأَشْهِدُوا۟
तो गवाह बना लो
on them
عَلَيْهِمْۚ
उन पर
And is sufficient
وَكَفَىٰ
और काफ़ी है
Allah
بِٱللَّهِ
अल्लाह
(as) a Reckoner
حَسِيبًا
ख़ूब हिसाब लेने वाला

Waibtaloo alyatama hatta itha balaghoo alnnikaha fain anastum minhum rushdan faidfa'oo ilayhim amwalahum wala takulooha israfan wabidaran an yakbaroo waman kana ghaniyyan falyasta'fif waman kana faqeeran falyakul bialma'roofi faitha dafa'tum ilayhim amwalahum faashhidoo 'alayhim wakafa biAllahi haseeban

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और अनाथों को जाँचते रहो, यहाँ तक कि जब वे विवाह की अवस्था को पहुँच जाएँ, तो फिर यदि तुम देखो कि उनमें सूझ-बूझ आ गई है, तो उनके माल उन्हें सौंप दो, और इस भय से कि कहीं वे बड़े न हो जाएँ तुम उनके माल अनुचित रूप से उड़ाकर और जल्दी करके न खाओ। और जो धनवान हो, उसे तो (इस माल से) से बचना ही चाहिए। हाँ, जो निर्धन हो, वह उचित रीति से कुछ खा सकता है। फिर जब उनके माल उन्हें सौंपने लगो, तो उनकी मौजूदगी में गवाह बना लो। हिसाब लेने के लिए अल्लाह काफ़ी है

English Sahih:

And test the orphans [in their abilities] until they reach marriageable age. Then if you perceive in them sound judgement, release their property to them. And do not consume it excessively and quickly, [anticipating] that they will grow up. And whoever, [when acting as guardian], is self-sufficient should refrain [from taking a fee]; and whoever is poor – let him take according to what is acceptable. Then when you release their property to them, bring witnesses upon them. And sufficient is Allah as Accountant.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और यतीमों को कारोबार में लगाए रहो यहॉ तक के ब्याहने के क़ाबिल हों फिर उस वक्त तुम उन्हे (एक महीने का ख़र्च) उनके हाथ से कराके अगर होशियार पाओ तो उनका माल उनके हवाले कर दो और (ख़बरदार) ऐसा न करना कि इस ख़ौफ़ से कि कहीं ये बड़े हो जाएंगे फ़ुज़ूल ख़र्ची करके झटपट उनका माल चट कर जाओ और जो (जो वली या सरपरस्त) दौलतमन्द हो तो वह (माले यतीम अपने ख़र्च में लाने से) बचता रहे और (हॉ) जो मोहताज हो वह अलबत्ता (वाजिबी) दस्तूर के मुताबिक़ खा सकता है पस जब उनके माल उनके हवाले करने लगो तो लोगों को उनका गवाह बना लो और (यूं तो) हिसाब लेने को ख़ुदा काफ़ी ही है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा अनाथों की परीक्षा लेते रहो, यहाँ तक कि वे विवाह की आयु को पहुँच जायें, तो यदि तुम उनमें सुधार देखो, तो उनका धन उन्हें समर्पित कर दो और उसे अपव्यय तथा शीघ्रता से इसलिए न खाओ कि वे बड़े हो जायेंगे और जो धनी हो, तो वह बचे तथा जो निर्धन हो, वह नियमानुसार खा ले तथा जब तुम उनका धन उनके ह़वाले करो, तो उनपर साक्षी बना लो और अल्लाह ह़िसाब लेने के लिए काफ़ी है।