Skip to main content

अन-निसा आयत ९७ | An-Nisa 4:97

Indeed
إِنَّ
बेशक
those whom -
ٱلَّذِينَ
वो जो
take them (in death)
تَوَفَّىٰهُمُ
फ़ौत करते हैं उन्हें
the Angels
ٱلْمَلَٰٓئِكَةُ
फ़रिश्ते
(while) they (were) wronging
ظَالِمِىٓ
ज़ुल्म करने वाले हैं (जब कि वो)
themselves
أَنفُسِهِمْ
अपनी जानों पर
they say
قَالُوا۟
वो कहते हैं
"In what (condition)
فِيمَ
किस (हाल) में
were you?"
كُنتُمْۖ
थे तुम
They said
قَالُوا۟
वो कहते हैं
"We were
كُنَّا
थे हम
oppressed
مُسْتَضْعَفِينَ
कमज़ोर
in
فِى
ज़मीन में
the earth
ٱلْأَرْضِۚ
ज़मीन में
They said
قَالُوٓا۟
वो कहते हैं
"Not
أَلَمْ
क्या नहीं
was
تَكُنْ
थी
(the) earth
أَرْضُ
ज़मीन
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह की
spacious (enough)
وَٰسِعَةً
वसीअ
so that you (could) emigrate
فَتُهَاجِرُوا۟
पस तुम हिजरत कर जाते
in it?"
فِيهَاۚ
उसमें
Then those
فَأُو۟لَٰٓئِكَ
तो यही लोग हैं
(will have) their abode
مَأْوَىٰهُمْ
ठिकाना उनका
(in) Hell -
جَهَنَّمُۖ
जहन्नम है
and it is an evil
وَسَآءَتْ
और कितना बुरा है
destination
مَصِيرًا
ठिकाना

Inna allatheena tawaffahumu almalaikatu thalimee anfusihim qaloo feema kuntum qaloo kunna mustad'afeena fee alardi qaloo alam takun ardu Allahi wasi'atan fatuhajiroo feeha faolaika mawahum jahannamu wasaat maseeran

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जो लोग अपने-आप पर अत्याचार करते है, जब फ़रिश्ते उस दशा में उनके प्राण ग्रस्त कर लेते है, तो कहते है, 'तुम किस दशा में पड़े रहे?' वे कहते है, 'हम धरती में निर्बल और बेबस थे।' फ़रिश्ते कहते है, 'क्या अल्लाह की धरती विस्तृत न थी कि तुम उसमें घर-बार छोड़कर कहीं ओर चले जाते?' तो ये वही लोग है जिनका ठिकाना जहन्नम है। - और वह बहुत ही बुरा ठिकाना है

English Sahih:

Indeed, those whom the angels take [in death] while wronging themselves – [the angels] will say, "In what [condition] were you?" They will say, "We were oppressed in the land." They [the angels] will say, "Was not the earth of Allah spacious [enough] for you to emigrate therein?" For those, their refuge is Hell – and evil it is as a destination.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

बेशक जिन लोगों की क़ब्जे रूह फ़रिश्ते ने उस वक़त की है कि (दारूल हरब में पड़े) अपनी जानों पर ज़ुल्म कर रहे थे और फ़रिश्ते कब्जे रूह के बाद हैरत से कहते हैं तुम किस (हालत) ग़फ़लत में थे तो वह (माज़ेरत के लहजे में) कहते है कि हम तो रूए ज़मीन में बेकस थे तो फ़रिश्ते कहते हैं कि ख़ुदा की (ऐसी लम्बी चौड़ी) ज़मीन में इतनी सी गुन्जाइश न थी कि तुम (कहीं) हिजरत करके चले जाते पस ऐसे लोगों का ठिकाना जहन्नुम है और वह बुरा ठिकाना है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

निःसंदेह वे लोग, जिनके प्राण फ़रिश्ते निकालते हैं, इस दशा में कि वे अपने ऊपर (कुफ़्र के देश में रहकर) अत्याचार करने वाले हों, तो उनसे कहते हैं, तुम किस चीज़ में थे? वे कहते हैं कि हम धरती में विवश थे। तब फ़रिश्ते कहते हैं, क्या अल्लाह की धरती विस्तृत नहीं थी कि तुम उसमें हिजरत कर[1] जाते? तो इन्हीं का आवास नरक है और वह क्या ही बुरा स्थान है!