Skip to main content

अश-शूरा आयत ५२ | Ash-Shuraa 42:52

And thus
وَكَذَٰلِكَ
और इसी तरह
We have revealed
أَوْحَيْنَآ
वही की हमने
to you
إِلَيْكَ
आपकी तरफ़
an inspiration
رُوحًا
एक रूह (क़ुरान ) की
by
مِّنْ
अपने हुक्म से
Our Command
أَمْرِنَاۚ
अपने हुक्म से
Not
مَا
ना
did you
كُنتَ
थे आप
know
تَدْرِى
आप जानते
what
مَا
क्या है
the Book (is)
ٱلْكِتَٰبُ
किताब
and not
وَلَا
और ना
the faith
ٱلْإِيمَٰنُ
ईमान
But
وَلَٰكِن
और लेकिन
We have made it
جَعَلْنَٰهُ
बनाया हमने उसे
a light
نُورًا
ऐसा नूर
We guide
نَّهْدِى
हम हिदायत देते हैं
with it
بِهِۦ
साथ उसके
whom
مَن
जिसे
We will
نَّشَآءُ
हम चाहते हैं
of
مِنْ
अपने बन्दों में से
Our slaves
عِبَادِنَاۚ
अपने बन्दों में से
And indeed you
وَإِنَّكَ
और बेशक आप
surely guide
لَتَهْدِىٓ
अलबत्ता आप रहनुमाई करते हैं
to
إِلَىٰ
तरफ़ रास्ते
(the) path
صِرَٰطٍ
तरफ़ रास्ते
straight
مُّسْتَقِيمٍ
सीधे के

Wakathalika awhayna ilayka roohan min amrina ma kunta tadree ma alkitabu wala aleemanu walakin ja'alnahu nooran nahdee bihi man nashao min 'ibadina wainnaka latahdee ila siratin mustaqeemin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और इसी प्रकार हमने अपने आदेश से एक रूह (क़ुरआन) की प्रकाशना तुम्हारी ओर की है। तुम नहीं जानते थे कि किताब क्या होती है और न ईमान को (जानते थे), किन्तु हमने इस (प्रकाशना) को एक प्रकाश बनाया, जिसके द्वारा हम अपने बन्दों में से जिसे चाहते है मार्ग दिखाते है। निश्चय ही तुम एक सीधे मार्ग की ओर पथप्रदर्शन कर रहे हो-

English Sahih:

And thus We have revealed to you an inspiration of Our command [i.e., the Quran]. You did not know what is the Book or [what is] faith, but We have made it a light by which We guide whom We will of Our servants. And indeed, [O Muhammad], you guide to a straight path –

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और इसी तरह हमने अपने हुक्म को रूह (क़ुरान) तुम्हारी तरफ 'वही' के ज़रिए से भेजे तो तुम न किताब ही को जानते थे कि क्या है और न ईमान को मगर इस (क़ुरान) को एक नूर बनाया है कि इससे हम अपने बन्दों में से जिसकी चाहते हैं हिदायत करते हैं और इसमें शक़ नहीं कि तुम (ऐ रसूल) सीधा ही रास्ता दिखाते हो

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और इसी प्रकार, हमने वह़्यी (प्रकाशना) की है, आपकी ओर, अपने आदेश की रूह़ (क़ुर्आन)। आप नहीं जानते थे कि पुस्तक क्या है और ईमान[1] क्या है। परन्तु, हमने इसे बना दिया एक ज्योति। हम मार्ग दिखाते हैं इसके द्वारा, जिसे चाहते हैं अपने भक्तों में से और वस्तुतः, आप सीधी राह[1] दिखा रहे हैं।