Skip to main content
In
فِى
वर्क़ में
parchment
رَقٍّ
वर्क़ में
unrolled
مَّنشُورٍ
खुले हुए

Fee raqqin manshoorin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

फैले हुए झिल्ली के पन्ने में

English Sahih:

In parchment spread open

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जो क़ुशादा औराक़ में लिखी हुई है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

जो झिल्ली के खुले पन्नों में लिखी हुई है।