Skip to main content

अल-अनाम आयत १२१ | Al-Anam 6:121

And (do) not
وَلَا
और ना
eat
تَأْكُلُوا۟
तुम खाओ
of that
مِمَّا
उसमें से जो
not
لَمْ
नहीं
has been mentioned
يُذْكَرِ
ज़िक्र किया गया
(the) name
ٱسْمُ
नाम
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह का
on it
عَلَيْهِ
उस पर
and indeed, it (is)
وَإِنَّهُۥ
और बेशक वो
grave disobedience
لَفِسْقٌۗ
अलबत्ता गुनाह है
And indeed
وَإِنَّ
और बेशक
the devils
ٱلشَّيَٰطِينَ
शयातीन
inspire
لَيُوحُونَ
अलबत्ता वो इल्क़ा करते हैं
to
إِلَىٰٓ
तरफ़ अपने दोस्तों के
their friends
أَوْلِيَآئِهِمْ
तरफ़ अपने दोस्तों के
so that they dispute with you
لِيُجَٰدِلُوكُمْۖ
ताकि वो झगड़ें तुमसे
and if
وَإِنْ
और अगर
you obey them
أَطَعْتُمُوهُمْ
इताअत की तुमने उनकी
indeed, you
إِنَّكُمْ
बेशक तुम
(would) be the polytheists
لَمُشْرِكُونَ
अलबत्ता मुशरिक होगे

Wala takuloo mimma lam yuthkari ismu Allahi 'alayhi wainnahu lafisqun wainna alshshayateena layoohoona ila awliyaihim liyujadilookum wain ata'tumoohum innakum lamushrikoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और उसे न खाओं जिसपर अल्लाह का नाम न लिया गया हो। निश्चय ही वह तो आज्ञा का उल्लंघन है। शैतान तो अपने मित्रों के दिलों में डालते है कि वे तुमसे झगड़े। यदि तुमने उनकी बात मान ली तो निश्चय ही तुम बहुदेववादी होगे

English Sahih:

And do not eat of that upon which the name of Allah has not been mentioned, for indeed, it is grave disobedience. And indeed do the devils inspire their allies [among men] to dispute with you. And if you were to obey them, indeed, you would be associators [of others with Him].

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जिस (ज़बीहे) पर ख़ुदा का नाम न लिया गया उसमें से मत खाओ (क्योंकि) ये बेशक बदचलनी है और शयातीन तो अपने हवा ख़वाहों के दिल में वसवसा डाला ही करते हैं ताकि वह तुमसे (बेकार) झगड़े किया करें और अगर (कहीं) तुमने उनका कहना मान लिया तो (समझ रखो कि) बेशुबहा तुम भी मुशरिक हो

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा उसमें से न खाओ, जिसपर अल्लाह का नाम न लिया गया हो। वास्तव में, उसे खाना (अल्लाह की) अवज्ञा है। निःसंदेंह, शैतान अपने सहायकों के मन में संशय डालते रहते हैं, ताकि वे तुमसे विवाद करें[1] और यदि तुमने उनकी बात मान ली, तो निश्चय तुम मुश्रिक हो।