Skip to main content

अल-अनाम आयत ८१ | Al-Anam 6:81

And how
وَكَيْفَ
और क्यों कर
could I fear
أَخَافُ
मैं डरूँ
what
مَآ
उससे जिसको
you associate (with Allah)
أَشْرَكْتُمْ
शरीक बनाया तुमने
while not
وَلَا
जबकि नहीं
you fear
تَخَافُونَ
तुम डरते
that you
أَنَّكُمْ
कि बेशक तुम
have associated
أَشْرَكْتُم
शरीक बनाया तुमने
with Allah
بِٱللَّهِ
अल्लाह का
what
مَا
उसे जो
not
لَمْ
नहीं
did He send down
يُنَزِّلْ
उसने नाज़िल की
for it
بِهِۦ
जिसकी
to you
عَلَيْكُمْ
तुम पर
any authority
سُلْطَٰنًاۚ
कोई दलील
So which
فَأَىُّ
तो कौन सा
(of) the two parties
ٱلْفَرِيقَيْنِ
दोनों गिरोहों में से
has more right
أَحَقُّ
ज़्यादा हक़दार है
to security
بِٱلْأَمْنِۖ
अमन का
if
إِن
अगर
you
كُنتُمْ
हो तुम
know?"
تَعْلَمُونَ
तुम जानते

Wakayfa akhafu ma ashraktum wala takhafoona annakum ashraktum biAllahi ma lam yunazzil bihi 'alaykum sultanan faayyu alfareeqayni ahaqqu bialamni in kuntum ta'lamoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

'और मैं तुम्हारे ठहराए हुए साझीदारो से कैसे डरूँ, जबकि तुम इस बात से नहीं डरते कि तुमने उसे अल्लाह का सहभागी उस चीज़ को ठहराया है, जिसका उसने तुमपर कोई प्रमाण अवतरित नहीं किया? अब दोनों फ़रीकों में से कौन अधिक निश्चिन्त रहने का अधिकारी है? बताओ यदि तुम जानते हो

English Sahih:

And how should I fear what you associate while you do not fear that you have associated with Allah that for which He has not sent down to you any authority? So which of the two parties has more right to security, if you should know?"

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जिन्हें तुम ख़ुदा का शरीक बताते हो मै उन से क्यों डरुँ जब तुम इस बात से नहीं डरते कि तुमने ख़ुदा का शरीक ऐसी चीज़ों को बनाया है जिनकी ख़ुदा ने कोई सनद तुम पर नहीं नाज़िल की फिर अगर तुम जानते हो तो (भला बताओ तो सही कि) हम दोनों फरीक़ (गिरोह) में अमन क़ायम रखने का ज्यादा हक़दार कौन है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और मैं उनसे कैसे डरूँ, जिन्हें तुमने उसका साझी बना लिया है, जब तुम उस चीज़ को उसका साझी बनाने से नहीं डरते, जिसका अल्लाह ने कोई तर्क (प्रमाण) नहीं उतारा है? तो दोनों पक्षों में कौन अधिक शान्त रहने का अधिकारी है, यदि तुम कुछ ज्ञान रखते हो?