Skip to main content

अल-मुल्क आयत १० | Al-Mulk 67:10

And they will say
وَقَالُوا۟
और वो कहेंगे
"If
لَوْ
अगर
we had
كُنَّا
होते हम
listened
نَسْمَعُ
हम सुनते
or
أَوْ
या
reasoned
نَعْقِلُ
हम समझते
not
مَا
ना
we (would) have been
كُنَّا
होते हम
among
فِىٓ
साथियों में
(the) companions
أَصْحَٰبِ
साथियों में
(of) the Blaze"
ٱلسَّعِيرِ
भड़कती आग के

Waqaloo law kunna nasma'u aw na'qilu ma kunna fee ashabi alssa'eeri

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और वे कहेंगे, 'यदि हम सुनते या बुद्धि से काम लेते तो हम दहकती आग में पड़नेवालों में सम्मिलित न होते।'

English Sahih:

And they will say, "If only we had been listening or reasoning, we would not be among the companions of the Blaze."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (ये भी) कहेंगे कि अगर (उनकी बात) सुनते या समझते तब तो (आज) दोज़ख़ियों में न होते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा वह कहेंगेः यदि हमने सुना और समझा होता तो नरक के वासियों में न होते।