Skip to main content

अल-कियामा आयत १ | Al-Qiyamah 75:1

Nay!
لَآ
नहीं मैं क़सम खाता हूँ
I swear
أُقْسِمُ
नहीं मैं क़सम खाता हूँ
by (the) Day
بِيَوْمِ
दिन की
(of) the Resurrection
ٱلْقِيَٰمَةِ
क़यामत के

La oqsimu biyawmi alqiyamati

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

नहीं, मैं क़सम खाता हूँ क़ियामत के दिन की,

English Sahih:

I swear by the Day of Resurrection

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

मैं रोजे क़यामत की क़सम खाता हूँ

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

मैं शपथ लेता हूँ क़्यामत (प्रलय) के दिन[1] की!