Skip to main content

अल-फज्र आयत ३० | Al-Fajr 89:30

And enter
وَٱدْخُلِى
और दाख़िल हो जाओ
My Paradise"
جَنَّتِى
मेरी जन्नत में

Waodkhulee jannatee

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और प्रवेश कर मेरी जन्नत में।'

English Sahih:

And enter My Paradise."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और मेरे बेहिश्त में दाख़िल हो जा

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और मेरे स्वर्ग में प्रवेश कर जा।[1]