Skip to main content
bismillah
وَٱلْفَجْرِ
क़सम है फ़जर की

Waalfajri

साक्षी है उषाकाल,

Tafseer (तफ़सीर )
وَلَيَالٍ
और दस रातों की
عَشْرٍ
और दस रातों की

Walayalin 'ashrin

साक्षी है दस रातें,

Tafseer (तफ़सीर )
وَٱلشَّفْعِ
और जुफ़्त
وَٱلْوَتْرِ
और ताक़ की

Waalshshaf'i waalwatri

साक्षी है युग्म और अयुग्म,

Tafseer (तफ़सीर )
وَٱلَّيْلِ
और रात की
إِذَا
जब
يَسْرِ
वो चलती है

Waallayli itha yasri

साक्षी है रात जब वह विदा हो रही हो

Tafseer (तफ़सीर )
هَلْ
क्या है
فِى
उसमें
ذَٰلِكَ
उसमें
قَسَمٌ
एक बड़ी क़सम
لِّذِى
अक़्ल वालों के लिए
حِجْرٍ
अक़्ल वालों के लिए

Hal fee thalika qasamun lithee hijrin

क्या इसमें बुद्धिमान के लिए बड़ी गवाही है?

Tafseer (तफ़सीर )
أَلَمْ
क्या नहीं
تَرَ
आपने देखा
كَيْفَ
कैसे
فَعَلَ
किया
رَبُّكَ
आपके रब ने
بِعَادٍ
साथ आद के

Alam tara kayfa fa'ala rabbuka bi'adin

क्या तुमने देखा नहीं कि तुम्हारे रब ने क्या किया आद के साथ,

Tafseer (तफ़सीर )
إِرَمَ
जो इरम(क़बीले) के थे
ذَاتِ
सुतूनों वाले
ٱلْعِمَادِ
सुतूनों वाले

Irama thati al'imadi

स्तम्भों वाले 'इरम' के साथ?

Tafseer (तफ़सीर )
ٱلَّتِى
वो जो
لَمْ
नहीं
يُخْلَقْ
पैदा किया गया
مِثْلُهَا
उन जैसा
فِى
शहरों में
ٱلْبِلَٰدِ
शहरों में

Allatee lam yukhlaq mithluha fee albiladi

वे ऐसे थे जिनके सदृश बस्तियों में पैदा नहीं हुए

Tafseer (तफ़सीर )
وَثَمُودَ
और समूद
ٱلَّذِينَ
वो जिन्होंने
جَابُوا۟
तराशा
ٱلصَّخْرَ
चट्टानों को
بِٱلْوَادِ
वादी में

Wathamooda allatheena jaboo alssakhra bialwadi

और समूद के साथ, जिन्होंने घाटी में चट्टाने तराशी थी,

Tafseer (तफ़सीर )
وَفِرْعَوْنَ
और फ़िरऔन
ذِى
मेख़ों वाले के
ٱلْأَوْتَادِ
मेख़ों वाले के

Wafir'awna thee alawtadi

और मेखोवाले फ़िरऔन के साथ?

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अल-फज्र
القرآن الكريم:الفجر
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):Al-Fajr
सूरा:89
कुल आयत:30
कुल शब्द:139
कुल वर्ण:597
रुकु:1
वर्गीकरण:मक्कन सूरा
Revelation Order:10
से शुरू आयत:5993