Skip to main content

अत-तौबा आयत १२० | At-Taubah 9:120

Not
مَا
ना
it was
كَانَ
था
(for) the people
لِأَهْلِ
मदीना वालों के (लायक़)
of the Madinah
ٱلْمَدِينَةِ
मदीना वालों के (लायक़)
and who
وَمَنْ
और उनके जो
were around them
حَوْلَهُم
उनके आस पास थे
of
مِّنَ
देहातियों/बदवियों में से
the bedouins
ٱلْأَعْرَابِ
देहातियों/बदवियों में से
that
أَن
कि
they remain behind
يَتَخَلَّفُوا۟
वो पीछे रह जाऐं
after
عَن
अल्लाह के रसूल से
the Messenger
رَّسُولِ
अल्लाह के रसूल से
of Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह के रसूल से
and not
وَلَا
और ना
they prefer
يَرْغَبُوا۟
कि वो रग़बत रखें
their lives
بِأَنفُسِهِمْ
अपनी जानों की
to
عَن
आपकी जान से (ज़्यादा)
his life
نَّفْسِهِۦۚ
आपकी जान से (ज़्यादा)
That is
ذَٰلِكَ
ये
because [they]
بِأَنَّهُمْ
बवजह इसके कि वो
(does) not
لَا
नहीं पहुँचती उन्हें
afflict them
يُصِيبُهُمْ
नहीं पहुँचती उन्हें
thirst
ظَمَأٌ
कोई प्यास
and not
وَلَا
और ना
fatigue
نَصَبٌ
कोई थकावट
and not
وَلَا
और ना
hunger
مَخْمَصَةٌ
कोई भूख
in
فِى
अल्लाह के रास्ते में
(the) way
سَبِيلِ
अल्लाह के रास्ते में
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह के रास्ते में
and not
وَلَا
और नहीं
they step
يَطَـُٔونَ
वो रौंदते
any step
مَوْطِئًا
किसी जगह को
that angers
يَغِيظُ
जो ग़ुस्सा दिलाए
the disbelievers
ٱلْكُفَّارَ
कुफ़्फ़ार को
and not
وَلَا
और नहीं
they inflict
يَنَالُونَ
वो हासिल करते
on
مِنْ
दुश्मन पर
an enemy
عَدُوٍّ
दुश्मन पर
an infliction
نَّيْلًا
कोई कामयाबी
except
إِلَّا
मगर
is recorded
كُتِبَ
लिखा जाता है
for them
لَهُم
उनके लिए
in it
بِهِۦ
साथ उसके
(as) a deed
عَمَلٌ
अमल
righteous
صَٰلِحٌۚ
नेक
Indeed
إِنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
(does) not
لَا
नहीं वो ज़ाया करता
allow to be lost
يُضِيعُ
नहीं वो ज़ाया करता
the reward
أَجْرَ
अजर
(of) the good-doers
ٱلْمُحْسِنِينَ
नेको कारों का

Ma kana liahli almadeenati waman hawlahum mina ala'rabi an yatakhallafoo 'an rasooli Allahi wala yarghaboo bianfusihim 'an nafsihi thalika biannahum la yuseebuhum thamaon wala nasabun wala makhmasatun fee sabeeli Allahi wala yataoona mawtian yagheethu alkuffara wala yanaloona min 'aduwwin naylan illa kutiba lahum bihi 'amalun salihun inna Allaha la yudee'u ajra almuhsineena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

मदीनावालों और उसके आसपास के बद्दूहओं को ऐसा नहीं चाहिए था कि अल्लाह के रसूल को छोड़कर पीछे रह जाएँ और न यह कि उसकी जान के मुक़ाबले में उन्हें अपनी जान अधिक प्रिय हो, क्योंकि वह अल्लाह के मार्ग में प्यास या थकान या भूख की कोई भी तकलीफ़ उठाएँ या किसी ऐसी जगह क़दम रखें, जिससे काफ़िरों का क्रोध भड़के या जो चरका भी वे शत्रु को लगाएँ, उसपर उनके हक में अनिवार्यतः एक सुकर्म लिख लिया जाता है। निस्संदेह अल्लाह उत्तमकार का कर्मफल अकारथ नहीं जाने देता

English Sahih:

It was not [proper] for the people of Madinah and those surrounding them of the bedouins that they remain behind after [the departure of] the Messenger of Allah or that they prefer themselves over his self. That is because they are not afflicted by thirst or fatigue or hunger in the cause of Allah, nor do they tread on any ground that enrages the disbelievers, nor do they inflict upon an enemy any infliction but that it is registered for them as a righteous deed. Indeed, Allah does not allow to be lost the reward of the doers of good.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

मदीने के रहने वालों और उनके गिर्दोनवॉ (आस पास) देहातियों को ये जायज़ न था कि रसूल ख़ुदा का साथ छोड़ दें और न ये (जायज़ था) कि रसूल की जान से बेपरवा होकर अपनी जानों के बचाने की फ्रिक करें ये हुक्म उसी सबब से था कि उन (जिहाद करने वालों) को ख़ुदा की रूह में जो तकलीफ़ प्यास की या मेहनत या भूख की शिद्दत की पहुँचती है या ऐसी राह चलते हैं जो कुफ्फ़ार के ग़ैज़ (ग़ज़ब का बाइस हो या किसी दुश्मन से कुछ ये लोग हासिल करते हैं तो बस उसके ऐवज़ में (उनके नामए अमल में) एक नेक काम लिख दिया जाएगा बेशक ख़ुदा नेकी करने वालों का अज्र (व सवाब) बरबाद नहीं करता है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

मदीना के वासियों तथा उनके आस-पास के देहातियों के लिए उचित नहीं था कि अल्लाह के रसूल से पीछे रह जायें और अपने प्राणों को आपके प्राण से प्रिय समझें। ये इसलिए कि उन्हें अल्लाह की राह में कोई प्यास और थकान तथा भूक नहीं पहुँचती है और न वे किसी ऐसे स्थान को रोंदते हैं, जो काफ़िरों को अप्रिय हो या किसी शत्रु से वह कोई सफलता प्राप्त नहीं करते हैं, परन्तु उनके लिए एक सत्कर्म लिख दिया जाता है। वास्तव में, अल्लाह सत्कर्मियों का फल व्यर्थ नहीं करता।