Skip to main content

अल-माऊन आयत ४ | Al-Ma’un 107:4

So woe
فَوَيْلٌ
पस हलाकत है
to those who pray
لِّلْمُصَلِّينَ
उन नमाज़ियों के लिए

Fawaylun lilmusalleena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

अतः तबाही है उन नमाज़ियों के लिए,

English Sahih:

So woe to those who pray .

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तो उन नमाज़ियों की तबाही है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

विनाश है उन नमाज़ियों के लिए[1]