Skip to main content
He said
قَالَ
उसने कहा
"O my people!
يَٰقَوْمِ
ऐ मेरी क़ौम
Do you see
أَرَءَيْتُمْ
क्या देखा तुमने
if
إِن
अगर
I am
كُنتُ
हूँ मैं
on
عَلَىٰ
एक वाज़ेह दलील पर
a clear proof
بَيِّنَةٍ
एक वाज़ेह दलील पर
from
مِّن
अपने रब की तरफ़ से
my Lord
رَّبِّى
अपने रब की तरफ़ से
and He has given me
وَءَاتَىٰنِى
और उसने दी हो मुझे
from Him
مِنْهُ
अपनी तरफ़ से
a Mercy
رَحْمَةً
रहमत
then who
فَمَن
तो कौन
(can) help me
يَنصُرُنِى
मदद करेगा मेरी
against
مِنَ
अल्लाह से (बचाने में)
Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह से (बचाने में)
if
إِنْ
अगर
I (were to) disobey Him?
عَصَيْتُهُۥۖ
नाफ़रमानी की मैंने उसकी
So not
فَمَا
तो नहीं
you would increase me
تَزِيدُونَنِى
तुम ज़्यादा करोगे मुझे
but
غَيْرَ
सिवाय
(in) loss
تَخْسِيرٍ
ख़सारा देने के

Qala ya qawmi araaytum in kuntu 'ala bayyinatin min rabbee waatanee minhu rahmatan faman yansurunee mina Allahi in 'asaytuhu fama tazeedoonanee ghayra takhseerin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

उसने कहा, 'ऐ मेरी क़ौम के लोगों! क्या तुमने सोचा? यदि मैं अपने रब के एक स्पष्ट प्रमाण पर हूँ और उसने मुझे अपनी ओर से दयालुता प्रदान की है, तो यदि मैं उसकी अवज्ञा करूँ तो अल्लाह के मुक़ाबले में कौन मेरी सहायता करेगा? तुम तो और अधिक घाटे में डाल देने के अतिरिक्त मेरे हक़ में और कोई अभिवृद्धि नहीं करोगे

English Sahih:

He said, "O my people, have you considered: if I should be upon clear evidence from my Lord and He has given me mercy from Himself, who would protect me from Allah if I disobeyed Him? So you would not increase me except in loss.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

कि उसने हैरत में डाल दिया है सालेह ने जवाब दिया ऐ मेरी क़ौम भला देखो तो कि अगर मैं अपने परवरदिगार की तरफ से रौशन दलील पर हूँ और उसने मुझे अपनी (बारगाह) मे रहमत (नबूवत) अता की है इस पर भी अगर मै उसकी नाफ़रमानी करुँ तो ख़ुदा (के अज़ाब से बचाने में) मेरी मदद कौन करेगा-फिर तुम सिवा नुक़सान के मेरा कुछ बढ़ा दोगे नहीं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

उस (सालेह़) ने कहाः हे मेरी जाति के लोगो! तुमने विचार किया कि यदि मैं अपने पालनहार की ओर से एक स्पष्ट खुले प्रमाण पर हूँ और उसने मुझे अपनी दया प्रदान की हो, तो कौन है, जो अल्लाह के मुक़ाबले में मेरी सहायता करेगा, यदि मैं उसकी अवज्ञा करूँ? तुम मुझे घाटे में डालने के सिवा कुछ नहीं दे सकते।