Skip to main content
They said
قَالُوا۟
उन्होंने कहा
"O Shuaib!
يَٰشُعَيْبُ
ऐ शुऐब
Not
مَا
नहीं
we understand
نَفْقَهُ
हम समझ पाते
much
كَثِيرًا
बहुत सा
of what
مِّمَّا
उसमें से जो
you say
تَقُولُ
तुम कहते को
and indeed, we
وَإِنَّا
और बेशक हम
surely [we] see you
لَنَرَىٰكَ
अलबत्ता हम देखते हैं तुझे
among us
فِينَا
अपने में
weak
ضَعِيفًاۖ
बहुत कमज़ोर
And if not
وَلَوْلَا
और अगर ना होता
for your family
رَهْطُكَ
क़बीला तेरा
surely we would have stoned you
لَرَجَمْنَٰكَۖ
अलबत्ता संगसार कर देते हम तुझे
and you are not
وَمَآ
और नहीं
and you are not
أَنتَ
तू
against us
عَلَيْنَا
हम पर
mighty"
بِعَزِيزٍ
कुछ ग़ालिब

Qaloo ya shu'aybu ma nafqahu katheeran mimma taqoolu wainna lanaraka feena da'eefan walawla rahtuka larajamnaka wama anta 'alayna bi'azeezin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

उन्होंने कहा, 'ऐ शुऐब! तेरी बहुत-सी बातों को समझने में तो हम असमर्थ है। और हम तो तुझे देखते है कि तू हमारे मध्य अत्यन्त निर्बल है। यदि तेरे भाई-बन्धु न होते तो हम पत्थर मार-मारकर कभी का तुझे समाप्त कर चुके होते। तू इतने बल-बूतेवाला तो नहीं कि हमपर भारी हो।'

English Sahih:

They said, "O Shuaib, we do not understand much of what you say, and indeed, we consider you among us as weak. And if not for your family, we would have stoned you [to death]; and you are not to us one respected."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और वह लोग कहने लगे ऐ शुएब जो बाते तुम कहते हो उनमें से अक्सर तो हमारी समझ ही में नहीं आयी और इसमें तो शक नहीं कि हम तुम्हें अपने लोगों में बहुत कमज़ोर समझते है और अगर तुम्हारा क़बीला न होता तो हम तुम को (कब का) संगसार कर चुके होते और तुम तो हम पर किसी तरह ग़ालिब नहीं आ सकते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

उन्होंने कहाः हे शोऐब! तुम्हारी बहुत-सी बात हम नहीं समझते और हम, तुम्हें अपने बीच निर्बल देख रहे हैं और यदि, भाई बन्धु न होते, तो हम तुम्हें पथराव करके मार डालते और तुम, हमपर कोई भारी तो नहीं हो।