Skip to main content

अल हिज्र आयत ८० | Al-Hijr 15:80

And certainly
وَلَقَدْ
और अलबत्ता तहक़ीक़
denied
كَذَّبَ
झुठलाया
(the) companions
أَصْحَٰبُ
हिज्र वालों ने
(of) the Rocky Tract
ٱلْحِجْرِ
हिज्र वालों ने
the Messengers
ٱلْمُرْسَلِينَ
रसूलों को

Walaqad kaththaba ashabu alhijri almursaleena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

हिज्रवाले भी रसूलों को झुठला चुके है

English Sahih:

And certainly did the companions of al-Hijr [i.e., the Thamud] deny the messengers.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और इसी तरह हिज्र के रहने वालों (क़ौम सालेह ने भी) पैग़म्बरों को झुठलाया

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और ह़िज्र के[1] लोगों ने रसूलों को झुठलाया।