Skip to main content

अन नहल आयत ५२ | An-Nahl 16:52

And to Him (belongs)
وَلَهُۥ
और उसी के लिए है
whatever
مَا
जो कुछ
(is) in
فِى
आसमानों में
the heavens
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों में
and the earth
وَٱلْأَرْضِ
और ज़मीन में है
and to Him
وَلَهُ
और उसी के लिए है
(is due) the worship
ٱلدِّينُ
दीन
constantly
وَاصِبًاۚ
दायमी
Then is it other (than)
أَفَغَيْرَ
क्या फिर ग़ैर अल्लाह से
Allah
ٱللَّهِ
क्या फिर ग़ैर अल्लाह से
you fear?
تَتَّقُونَ
तुम डरते हो

Walahu ma fee alssamawati waalardi walahu alddeenu wasiban afaghayra Allahi tattaqoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जो कुछ आकाशों और धरती में है सब उसी का है। उसी का दीन (धर्म) स्थायी और अनिवार्य है। फिर क्या अल्लाह के सिवा तुम किसी और का डर रखोगे?

English Sahih:

And to Him belongs whatever is in the heavens and the earth, and to Him is [due] worship constantly. Then is it other than Allah that you fear?

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जो कुछ आसमानों में हैं और जो कुछ ज़मीन में हैं (ग़रज़) सब कुछ उसी का है और ख़ालिस फरमाबरदारी हमेशा उसी को लाज़िम (जरूरी) है तो क्या तुम लोग ख़ुदा के सिवा (किसी और से भी) डरते हो

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और उसी का है, जो कुछ आकाशों तथा धरती में है और उसी की वंदना स्थायी है, तो क्या तुम अल्लाह के सिवा दूसरे से डरते हो?