Skip to main content
bismillah
أَتَىٰٓ
आ पहुँचा
أَمْرُ
हुक्म
ٱللَّهِ
अल्लाह का
فَلَا
पस ना
تَسْتَعْجِلُوهُۚ
तुम जल्दी माँगो उसे
سُبْحَٰنَهُۥ
पाक है वो
وَتَعَٰلَىٰ
और बुलन्द तर है
عَمَّا
उससे जो
يُشْرِكُونَ
वो शरीक ठहराते हैं

Ata amru Allahi fala tasta'jiloohu subhanahu wata'ala 'amma yushrikoona

आ गया आदेश अल्लाह का, तो अब उसके लिए जल्दी न मचाओ। वह महान और उच्च है उस शिर्क से जो व कर रहे है

Tafseer (तफ़सीर )
يُنَزِّلُ
वो उतारता है
ٱلْمَلَٰٓئِكَةَ
फ़रिश्तों को
بِٱلرُّوحِ
साथ वही के
مِنْ
अपने हुक्म से
أَمْرِهِۦ
अपने हुक्म से
عَلَىٰ
जिस पर
مَن
जिस पर
يَشَآءُ
वो चाहता है
مِنْ
अपने बन्दों में से
عِبَادِهِۦٓ
अपने बन्दों में से
أَنْ
कि
أَنذِرُوٓا۟
तुम डराओ (लोगों को)
أَنَّهُۥ
कि बेशक वो
لَآ
नहीं
إِلَٰهَ
कोई इलाह (बरहक़)
إِلَّآ
मगर
أَنَا۠
मैं ही
فَٱتَّقُونِ
पस डरो मुझसे

Yunazzilu almalaikata bialrroohi min amrihi 'ala man yashao min 'ibadihi an anthiroo annahu la ilaha illa ana faittaqooni

वह फ़रिश्तों को अपने हुक्म की रूह (वह्यल) के साथ अपने जिस बन्दे पर चाहता है उतारता है कि 'सचेत कर दो, मेरे सिवा कोई पूज्य-प्रभु नहीं। अतः तुम मेरा ही डर रखो।'

Tafseer (तफ़सीर )
خَلَقَ
उसने पैदा किया
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों
وَٱلْأَرْضَ
और ज़मीन को
بِٱلْحَقِّۚ
साथ हक़ के
تَعَٰلَىٰ
बुलन्द तर है
عَمَّا
उससे जो
يُشْرِكُونَ
वो शरीक ठहराते हैं

Khalaqa alssamawati waalarda bialhaqqi ta'ala 'amma yushrikoona

उसने आकाशों और धरती को सोद्देश्य पैदा किया। वह अत्यन्त उच्च है उस शिर्क से जो वे कर रहे है

Tafseer (तफ़सीर )
خَلَقَ
उसने पैदा किया
ٱلْإِنسَٰنَ
इन्सान को
مِن
एक नुत्फ़े से
نُّطْفَةٍ
एक नुत्फ़े से
فَإِذَا
फिर अचानक
هُوَ
वो
خَصِيمٌ
झगड़ालू है
مُّبِينٌ
खुल्लम-खुल्ला

Khalaqa alinsana min nutfatin faitha huwa khaseemun mubeenun

उसने मनुष्यों को एक बूँद से पैदा किया। फिर क्या देखते है कि वह खुला झगड़नेवाला बन गया!

Tafseer (तफ़सीर )
وَٱلْأَنْعَٰمَ
और चौपाए
خَلَقَهَاۗ
उसने पैदा किया उन्हें
لَكُمْ
तुम्हारे लिए
فِيهَا
उनमें
دِفْءٌ
गरमी का सामान है
وَمَنَٰفِعُ
और कई फ़ायदे हैं
وَمِنْهَا
और उनमें से
تَأْكُلُونَ
तुम खाते हो

Waalan'ama khalaqaha lakum feeha difon wamanafi'u waminha takuloona

रहे पशु, उन्हें भी उसी ने पैदा किया, जिसमें तुम्हारे लिए ऊष्मा प्राप्त करने का सामान भी है और हैं अन्य कितने ही लाभ। उनमें से कुछ को तुम खाते भी हो

Tafseer (तफ़सीर )
وَلَكُمْ
और तुम्हारे लिए
فِيهَا
उनमें
جَمَالٌ
ख़ूब सूरती है
حِينَ
जिस वक़्त
تُرِيحُونَ
तुम शाम को चरा कर लाते हो
وَحِينَ
और जिस वक़्त
تَسْرَحُونَ
तुम सुबह चराने जाते हो

Walakum feeha jamalun heena tureehoona waheena tasrahoona

उनमें तुम्हारे लिए सौन्दर्य भी है, जबकि तुम सायंकाल उन्हें लाते और जबकि तुम उन्हें चराने ले जाते हो

Tafseer (तफ़सीर )
وَتَحْمِلُ
और वो उठा ले जाते हैं
أَثْقَالَكُمْ
बोझ तुम्हारे
إِلَىٰ
तरफ़ उस शहर के
بَلَدٍ
तरफ़ उस शहर के
لَّمْ
ना
تَكُونُوا۟
थे तुम
بَٰلِغِيهِ
पहुँचने वाले उस तक
إِلَّا
मगर
بِشِقِّ
साथ मशक़्क़त के
ٱلْأَنفُسِۚ
जानों की
إِنَّ
बेशक
رَبَّكُمْ
रब तुम्हारा
لَرَءُوفٌ
अलबत्ता बहुत शफ़क़त करने वाला है
رَّحِيمٌ
निहायत रहम करने वाला है

Watahmilu athqalakum ila baladin lam takoonoo baligheehi illa bishiqqi alanfusi inna rabbakum laraoofun raheemun

वे तुम्हारे बोझ ढोकर ऐसे भूभाग तक ले जाते हैं, जहाँ तुम जी-तोड़ परिश्रम के बिना नहीं पहुँच सकते थे। निस्संदेह तुम्हारा रब बड़ा ही करुणामय, दयावान है

Tafseer (तफ़सीर )
وَٱلْخَيْلَ
और घोड़े
وَٱلْبِغَالَ
और ख़च्चर
وَٱلْحَمِيرَ
और गधे
لِتَرْكَبُوهَا
ताकि तुम सवारी करो उन पर
وَزِينَةًۚ
और ज़ीनत भी हैं
وَيَخْلُقُ
और वो पैदा करेगा
مَا
जो
لَا
नहीं
تَعْلَمُونَ
तुम जानते

Waalkhayla waalbighala waalhameera litarkabooha wazeenatan wayakhluqu ma la ta'lamoona

और घोड़े और खच्चर और गधे भी पैदा किए, ताकि तुम उनपर सवार हो और शोभा का कारण भी। और वह उसे भी पैदा करता है, जिसे तुम नहीं जानते

Tafseer (तफ़सीर )
وَعَلَى
और अल्लाह ही पर है
ٱللَّهِ
और अल्लाह ही पर है
قَصْدُ
सीधा
ٱلسَّبِيلِ
रास्ता
وَمِنْهَا
और उनमें से कुछ
جَآئِرٌۚ
टेढ़े हैं
وَلَوْ
और अगर
شَآءَ
वो चाहता
لَهَدَىٰكُمْ
अलबत्ता हिदायत दे देता तुम्हें
أَجْمَعِينَ
सबके सबको

Wa'ala Allahi qasdu alssabeeli waminha jairun walaw shaa lahadakum ajma'eena

अल्लाह के लिए ज़रूरी है उचित एवं अनुकूल मार्ग दिखाना और कुछ मार्ग टेढ़े भी है। यदि वह चाहता तो तुम सबको अवश्य सीधा मार्ग दिखा देता

Tafseer (तफ़सीर )
هُوَ
वो ही है
ٱلَّذِىٓ
जिसने
أَنزَلَ
उतारा
مِنَ
आसमान से
ٱلسَّمَآءِ
आसमान से
مَآءًۖ
पानी
لَّكُم
तुम्हारे लिए
مِّنْهُ
उसमें से
شَرَابٌ
पीना है
وَمِنْهُ
और उसमें से
شَجَرٌ
दरख़्त है
فِيهِ
जिसमें
تُسِيمُونَ
तुम चराते हो

Huwa allathee anzala mina alssamai maan lakum minhu sharabun waminhu shajarun feehi tuseemoona

वही है जिसने आकाश से तुम्हारे लिए पानी उतारा, जिसे तुम पीते हो और उसी से पेड़ और वनस्पतियाँ भी उगती है, जिनमें तुम जानवरों को चराते हो

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अन नहल
القرآن الكريم:النحل
आयत सजदा (سجدة):50
सूरा (latin):An-Nahl
सूरा:16
कुल आयत:128
कुल शब्द:2854
कुल वर्ण:7707
रुकु:16
वर्गीकरण:मक्कन सूरा
Revelation Order:70
से शुरू आयत:1901