Skip to main content

मरियम आयत ४६ | Mariyam 19:46

He said
قَالَ
उसने कहा
"Do you hate
أَرَاغِبٌ
क्या फिरने वाला है
"Do you hate
أَنتَ
तू
(from)
عَنْ
मेरे इलाहों से
my gods
ءَالِهَتِى
मेरे इलाहों से
O Ibrahim?
يَٰٓإِبْرَٰهِيمُۖ
ऐ इब्राहीम
Surely, if
لَئِن
अलबत्ता अगर
not
لَّمْ
ना
you desist
تَنتَهِ
तू बाज़ आया
surely, I will stone you
لَأَرْجُمَنَّكَۖ
अलबत्ता मैं ज़रुर संगसार कर दूँगा
so leave me
وَٱهْجُرْنِى
और छोड़ दे मुझे
(for) a prolonged time"
مَلِيًّا
लम्बी मुद्दत तक

Qala araghibun anta 'an alihatee ya ibraheemu lain lam tantahi laarjumannaka waohjurnee maliyyan

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

उसने कहा, 'ऐ इबराहीम! क्या तू मेरे उपास्यों से फिर गया है? यदि तू बाज़ न आया तो मैं तुझपर पथराव कर दूँगा। तू अलग हो जा मुझसे मुद्दत के लिए!'

English Sahih:

[His father] said, "Have you no desire for my gods, O Abraham? If you do not desist, I will surely stone you, so avoid me a prolonged time."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(आज़र ने) कहा (क्यों) इबराहीम क्या तू मेरे माबूदों को नहीं मानता है अगर तू (इन बातों से) किसी तरह बाज़ न आएगा तो (याद रहे) मैं तुझे संगसार कर दूँगा और तू मेरे पास से हमेशा के लिए दूर हो जा

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

उसने कहाः क्या तू हमारे पूज्यों से विमुख हो रहा है? हे इब्राहीम! यदि तू (इससे) नहीं रुका, तो मैं तुझे पत्थरों से मार दूँगा और तू मुझसे विलग हो जा, सदा के लिए।