Skip to main content

अल बकराह आयत १५८ | Al-Baqrah 2:158

Indeed
إِنَّ
बेशक
the Safa
ٱلصَّفَا
सफ़ा
and the Marwah
وَٱلْمَرْوَةَ
और मरवा
(are) from
مِن
निशानियों में से हैं
(the) symbols
شَعَآئِرِ
निशानियों में से हैं
(of) Allah
ٱللَّهِۖ
अल्लाह की
So whoever
فَمَنْ
पस जो कोई
performs Hajj
حَجَّ
हज करे
(of) the House
ٱلْبَيْتَ
बैतुल्लाह का
or
أَوِ
या
performs Umrah
ٱعْتَمَرَ
उमरा करे
so no
فَلَا
तो नहीं
blame
جُنَاحَ
कोई गुनाह
on him
عَلَيْهِ
उस पर
that
أَن
कि
he walks
يَطَّوَّفَ
वो तवाफ़ (सई) करे
between [both of] them
بِهِمَاۚ
उन दोनों का
And whoever
وَمَن
और जो कोई
voluntarily does
تَطَوَّعَ
ख़ुशी से करे
good
خَيْرًا
कोई नेकी
then indeed
فَإِنَّ
तो बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
(is) All-Appreciative
شَاكِرٌ
क़द्रदान है
All-Knowing
عَلِيمٌ
ख़ूब जानने वाला है

Inna alssafa waalmarwata min sha'airi Allahi faman hajja albayta awi i'tamara fala junaha 'alayhi an yattawwafa bihima waman tatawwa'a khayran fainna Allaha shakirun 'aleemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

निस्संदेह सफ़ा और मरवा अल्लाह की विशेष निशानियों में से हैं; अतः जो इस घर (काबा) का हज या उमपा करे, उसके लिए इसमें कोई दोष नहीं कि वह इन दोनों (पहाडियों) के बीच फेरा लगाए। और जो कोई स्वेच्छा और रुचि से कोई भलाई का कार्य करे तो अल्लाह भी गुणग्राहक, सर्वज्ञ है

English Sahih:

Indeed, as-Safa and al-Marwah are among the symbols of Allah. So whoever makes Hajj [pilgrimage] to the House or performs Umrah – there is no blame upon him for walking between them. And whoever volunteers good – then indeed, Allah is Appreciative and Knowing.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

बेशक (कोहे) सफ़ा और (कोह) मरवा ख़ुदा की निशानियों में से हैं पस जो शख्स ख़ानए काबा का हज या उमरा करे उस पर उन दोनो के (दरमियान) तवाफ़ (आमद ओ रफ्त) करने में कुछ गुनाह नहीं (बल्कि सवाब है) और जो शख्स खुश खुश नेक काम करे तो फिर ख़ुदा भी क़दरदाँ (और) वाक़िफ़कार है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

बेशक सफ़ा तथा मरवा पहाड़ी[1] अल्लाह (के धर्म) की निशानियों में से हैं। अतः जो अल्लाह के घर का ह़ज या उमरह करे, तो उसपर कोई दोष नहीं कि उन दोनों का फेरा लगाये और जो स्वेच्छा से भलाई करे, तो निःसंदेह अल्लाह उसका गुणग्राही अति ज्ञानी है।