Skip to main content

अल बकराह आयत २८५ | Al-Baqrah 2:285

Believed
ءَامَنَ
ईमान लाया
the Messenger
ٱلرَّسُولُ
रसूल
in what
بِمَآ
उस पर जो
was revealed
أُنزِلَ
नाज़िल किया गया
to him
إِلَيْهِ
तरफ़ उसके
from
مِن
उसके रब की तरफ़ से
his Lord
رَّبِّهِۦ
उसके रब की तरफ़ से
and the believers
وَٱلْمُؤْمِنُونَۚ
और सारे मोमिन (भी)
All
كُلٌّ
हर एक
believed
ءَامَنَ
ईमान लाया
in Allah
بِٱللَّهِ
अल्लाह पर
and His Angels
وَمَلَٰٓئِكَتِهِۦ
और उसके फ़रिश्तों पर
and His Books
وَكُتُبِهِۦ
और उसकी किताबों पर
and His Messengers
وَرُسُلِهِۦ
और उसके रसूलों पर
"Not
لَا
नहीं हम फ़र्क़ करते
we make distinction
نُفَرِّقُ
नहीं हम फ़र्क़ करते
between
بَيْنَ
दर्मियान
any
أَحَدٍ
किसी एक के
of
مِّن
उसके रसूलों में से
His Messengers
رُّسُلِهِۦۚ
उसके रसूलों में से
And they said
وَقَالُوا۟
और उन्होंने कहा
"We heard
سَمِعْنَا
सुना हमने
and we obeyed
وَأَطَعْنَاۖ
और इताअत की हमने
(Grant) us Your forgiveness
غُفْرَانَكَ
तेरी मग़फ़िरत (चाहते हैं)
our Lord
رَبَّنَا
ऐ हमारे रब
and to You
وَإِلَيْكَ
और तेरी ही तरफ़
(is) the return"
ٱلْمَصِيرُ
पलटना है

Amana alrrasoolu bima onzila ilayhi min rabbihi waalmuminoona kullun amana biAllahi wamalaikatihi wakutubihi warusulihi la nufarriqu bayna ahadin min rusulihi waqaloo sami'na waata'na ghufranaka rabbana wailayka almaseeru

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

रसूल उसपर, जो कुछ उसके रब की ओर से उसकी ओर उतरा, ईमान लाया और ईमानवाले भी, प्रत्येक, अल्लाह पर, उसके फ़रिश्तों पर, उसकी किताबों पर और उसके रसूलों पर ईमान लाया। (और उनका कहना यह है,) 'हम उसके रसूलों में से किसी को दूसरे रसूलों से अलग नहीं करते।' और उनका कहना है, 'हमने सुना और आज्ञाकारी हुए। हमारे रब! हम तेरी क्षमा के इच्छुक है और तेरी ही ओर लौटना है।'

English Sahih:

The Messenger has believed in what was revealed to him from his Lord, and [so have] the believers. All of them have believed in Allah and His angels and His books and His messengers, [saying], "We make no distinction between any of His messengers." And they say, "We hear and we obey. [We seek] Your forgiveness, our Lord, and to You is the [final] destination."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

हमारे पैग़म्बर (मोहम्मद) जो कुछ उनपर उनके परवरदिगार की तरफ से नाज़िल किया गया है उस पर ईमान लाए और उनके (साथ) मोमिनीन भी (सबके) सब ख़ुदा और उसके फ़रिश्तों और उसकी किताबों और उसके रसूलों पर ईमान लाए (और कहते हैं कि) हम ख़ुदा के पैग़म्बरों में से किसी में तफ़रक़ा नहीं करते और कहने लगे ऐ हमारे परवरदिगार हमने (तेरा इरशाद) सुना

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

रसूल उस चीज़ पर ईमान लाया, जो उसके लिए अल्लाह की ओर से उतारी गई तथा सब ईमान वाले उसपर ईमान लाये। वे सब अल्लाह तथा उसके फ़रिश्तों और उसकी सब पुस्तकों एवं रसूलों पर ईमान लाये। (वे कहते हैः) हम उसके रसूलों में से किसी के बीच अन्तर नहीं करते। हमने सुना और हम आज्ञाकारी हो गये। हे हमारे पालनहार! हमें क्षमा कर दे और हमें तेरे ही पास[1] आना है।