Skip to main content

अल बकराह आयत ७६ | Al-Baqrah 2:76

And when
وَإِذَا
और जब
they meet
لَقُوا۟
वो मुलाक़ात करते हैं
those who
ٱلَّذِينَ
उनसे जो
believe[d]
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए
they say
قَالُوٓا۟
वो कहते हैं
"We have believed"
ءَامَنَّا
ईमान लाए हम
But when
وَإِذَا
और जब
meet in private
خَلَا
अलेहदा होते हैं
some of them
بَعْضُهُمْ
बाज़ उनके
with
إِلَىٰ
तरफ़ बाज़ के
some (others)
بَعْضٍ
तरफ़ बाज़ के
they say
قَالُوٓا۟
वो कहते हैं
"Do you tell them
أَتُحَدِّثُونَهُم
क्या तुम बातें बताते हो उन्हें
what
بِمَا
जो
has
فَتَحَ
खोल दीं हैं
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
to you
عَلَيْكُمْ
तुम पर
so that they argue with you
لِيُحَآجُّوكُم
ताकि वो झगड़ा करें तुमसे
therewith
بِهِۦ
साथ उसके
before
عِندَ
पास
your Lord?
رَبِّكُمْۚ
तुम्हारे रब के
Then do (you) not
أَفَلَا
क्या फिर नहीं
understand?"
تَعْقِلُونَ
तुम अक़्ल से काम लेते

Waitha laqoo allatheena amanoo qaloo amanna waitha khala ba'duhum ila ba'din qaloo atuhaddithoonahum bima fataha Allahu 'alaykum liyuhajjookum bihi 'inda rabbikum afala ta'qiloona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और जब वे ईमान लानेवाले से मिलते है तो कहते हैं, 'हम भी ईमान रखते हैं', और जब आपस में एक-दूसरे से एकान्त में मिलते है तो कहते है, 'क्या तुम उन्हें वे बातें, जो अल्लाह ने तुम पर खोली, बता देते हो कि वे उनके द्वारा तुम्हारे रब के यहाँ हुज्जत में तुम्हारा मुक़ाबिला करें? तो क्या तुम समझते नहीं!'

English Sahih:

And when they meet those who believe, they say, "We have believed"; but when they are alone with one another, they say, "Do you talk to them about what Allah has revealed to you so they can argue with you about it before your Lord?" Then will you not reason?

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जो ईमान लाए तो कह देते हैं कि हम तो ईमान ला चुके और जब उनसे बाज़-बाज़ के साथ तख़िलया करते हैं तो कहते हैं कि जो कुछ खुदा ने तुम पर (तौरेत) में ज़ाहिर कर दिया है क्या तुम (मुसलमानों को) बता दोगे ताकि उसके सबब से कल तुम्हारे खुदा के पास तुम पर हुज्जत लाएँ क्या तुम इतना भी नहीं समझते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा जब वे ईमान वालों से मिलते हैं, तो कहते हैं कि हम भी ईमान लाये और जब एकान्त में आपस में एक-दूसरे से मिलते हैं, तो कहते हैं कि तुम उन्हें वो बातें क्यों बताते हो, जो अल्लाह ने तुमपर खोली[1] हैं? इसलिए कि प्रलय के दिन तुम्हारे पालनहार के पास इसे तुम्हारे विरुध्द प्रमाण बनायें? क्या तुम समझते नहीं हो?