Skip to main content

अत-तहा आयत ८६ | At-Tahaa 20:86

Then Musa returned
فَرَجَعَ
पस पलटा
Then Musa returned
مُوسَىٰٓ
मूसा
to
إِلَىٰ
तरफ़ अपनी कौम के
his people
قَوْمِهِۦ
तरफ़ अपनी कौम के
angry
غَضْبَٰنَ
सख़्त ग़ज़बनाक
(and) sorrowful
أَسِفًاۚ
ग़मगीन होकर
He said
قَالَ
कहा
"O my people!
يَٰقَوْمِ
ऐ मेरी क़ौम
Did not
أَلَمْ
क्या नहीं
promise you
يَعِدْكُمْ
वादा किया था तुमसे
your Lord
رَبُّكُمْ
तुम्हारे रब ने
a promise
وَعْدًا
वादा
good?
حَسَنًاۚ
अच्छा
Then, did seem long
أَفَطَالَ
क्या फिर तवील हो गई
to you
عَلَيْكُمُ
तुम पर
the promise
ٱلْعَهْدُ
वो मुद्दत
or
أَمْ
या
did you desire
أَرَدتُّمْ
चाहा तुमने
that
أَن
कि
descend
يَحِلَّ
उतरे
upon you
عَلَيْكُمْ
तुम पर
(the) Anger
غَضَبٌ
ग़ज़ब
of
مِّن
तुम्हारे रब की तरफ़ से
your Lord
رَّبِّكُمْ
तुम्हारे रब की तरफ़ से
so you broke
فَأَخْلَفْتُم
तो ख़िलाफ़ किया तुमने
(the) promise to me?"
مَّوْعِدِى
मेरे वादे के

Faraja'a moosa ila qawmihi ghadbana asifan qala ya qawmi alam ya'idkum rabbukum wa'dan hasanan afatala 'alaykumu al'ahdu am aradtum an yahilla 'alaykum ghadabun min rabbikum faakhlaftum maw'idee

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

तब मूसा अत्यन्त क्रोध और खेद में डूबा हुआ अपनी क़ौम के लोगों की ओर पलटा। कहा, 'ऐ मेरी क़ौम के लोगों! क्या तुमसे तुम्हारे रब ने अच्छा वादा नहीं किया था? क्या तुमपर लम्बी मुद्दत गुज़र गई या तुमने यही चाहा कि तुमपर तुम्हारे रब का प्रकोप ही टूटे कि तुमने मेरे वादे के विरुद्ध आचरण किया?'

English Sahih:

So Moses returned to his people, angry and grieved. He said, "O my people, did your Lord not make you a good promise? Then, was the time [of its fulfillment] too long for you, or did you wish that wrath from your Lord descend upon you, so you broke your promise [of obedience] to me?"

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(तो मूसा) गुस्से में भरे पछताए हुए अपनी क़ौम की तरफ पलटे और आकर कहने लगे ऐ मेरी (क़म्बख्त) क़ौम क्या तुमसे तुम्हारे परवरदिगार ने एक अच्छा वायदा (तौरेत देने का) न किया था तुम्हारे वायदे में अरसा लग गया या तुमने ये चाहा कि तुम पर तुम्हारे परवरदिगार का ग़ज़ब टूंट पड़े कि तुमने मेरे वायदे (खुदा की परसतिश) के ख़िलाफ किया

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तो मूसा वापस आया अपनी जाति की ओर अति क्रुध्द-शोकातुर होकर। उसने कहाः हे मेरी जाति के लोगो! क्या तुम्हें वचन नहीं दिया था तुम्हारे पालनहार ने एक अच्छा वचन[1]? तो क्या तुम्हें बहुत दिन लग[2] गये? अथवा तुमने चाहा कि उतर जाये कोई प्रकोप तुम्हारे पालनहार की ओर से? अतः तुमने मेरे वचन[3] को भंग कर दिया।