Skip to main content

आले इमरान आयत ४४ | Aal-e-Imran 3:44

That
ذَٰلِكَ
ये
(is) from
مِنْ
कुछ ख़बरें हैं
(the) news
أَنۢبَآءِ
कुछ ख़बरें हैं
(of) the unseen -
ٱلْغَيْبِ
ग़ैब की
We reveal it
نُوحِيهِ
हम वही करते हैं उसे
to you
إِلَيْكَۚ
तरफ़ आपके
And not
وَمَا
और ना
you were
كُنتَ
थे आप
with them
لَدَيْهِمْ
पास उनके
when
إِذْ
जब
they cast
يُلْقُونَ
वो डाल रहे थे
their pens
أَقْلَٰمَهُمْ
क़लमें अपनी
(as to) which of them
أَيُّهُمْ
कौन उनमें से
takes charge (of)
يَكْفُلُ
किफ़ालत करेगा
Maryam;
مَرْيَمَ
मरियम की
and not
وَمَا
और ना
you were
كُنتَ
थे आप
with them
لَدَيْهِمْ
पास उनके
when
إِذْ
जब
they (were) disputing
يَخْتَصِمُونَ
वो झगड़ रहे थे

Thalika min anbai alghaybi nooheehi ilayka wama kunta ladayhim ith yulqoona aqlamahum ayyuhum yakfulu maryama wama kunta ladayhim ith yakhtasimoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यह परोक्ष की सूचनाओं में से है, जिसकी वह्य हम तुम्हारी ओर कर रहे है। तुम तो उस समय उनके पास नहीं थे, जब वे अपनी क़लमों को फेंक रहे थ कि उनमें कौन मरयम का संरक्षक बने और न उनके समय थे, जब वे आपस में झगड़ रहे थे

English Sahih:

That is from the news of the unseen which We reveal to you, [O Muhammad]. And you were not with them when they cast their pens as to which of them should be responsible for Mary. Nor were you with them when they disputed.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐ रसूल) ये ख़बर गैब की ख़बरों में से है जो हम तुम्हारे पास 'वही' के ज़रिए से भेजते हैं (ऐ रसूल) तुम तो उन सरपरस्ताने मरियम के पास मौजूद न थे जब वह लोग अपना अपना क़लम दरिया में बतौर क़ुरआ के डाल रहे थे (देखें) कौन मरियम का कफ़ील बनता है और न तुम उस वक्त उनके पास मौजूद थे जब वह लोग आपस में झगड़ रहे थे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

ये ग़ैब (परोक्ष) की सूचनायें हैं, जिन्हें हम आपकी ओर प्रकाशना कर रहे हैं और आप उनके पास उपस्थित नहीं थे, जब वे अपनी लेखनियाँ[1] फेंक रहे थे कि कौन मर्यम का अभिरक्षण करेगा और न उनके पास उपस्थित थे, जब वे झगड़ रहे थे।