Skip to main content

अल-अह्जाब आयत ४८ | Al-Ahzab 33:48

And (do) not
وَلَا
और ना
obey
تُطِعِ
आप इताअत कीजिए
the disbelievers
ٱلْكَٰفِرِينَ
काफ़िरों की
and the hypocrites
وَٱلْمُنَٰفِقِينَ
और मुनाफ़िक़ों की
and disregard
وَدَعْ
और नज़र अंदाज़ कर दीजिए
their harm
أَذَىٰهُمْ
उनकी अज़ियत रसानी को
and put your trust
وَتَوَكَّلْ
और तवक्कल कीजिए
in
عَلَى
अल्लाह पर
Allah
ٱللَّهِۚ
अल्लाह पर
And sufficient is Allah
وَكَفَىٰ
और काफ़ी है
And sufficient is Allah
بِٱللَّهِ
अल्लाह
(as) a Trustee
وَكِيلًا
कारसाज़

Wala tuti'i alkafireena waalmunafiqeena wada' athahum watawakkal 'ala Allahi wakafa biAllahi wakeelan

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और इनकार करनेवालों और कपटाचारियों के कहने में न आना। उनकी पहुँचाई हुई तकलीफ़ का ख़याल न करो। और अल्लाह पर भरोसा रखो। अल्लाह इसके लिए काफ़ी है कि अपने मामले में उसपर भरोसा किया जाए

English Sahih:

And do not obey the disbelievers and the hypocrites and disregard their annoyance, and rely upon Allah. And sufficient is Allah as Disposer of affairs.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (ऐ रसूल) तुम (कहीं) काफिरों और मुनाफिक़ों की इताअत न करना और उनकी ईज़ारसानी का ख्याल छोड़ दो और खुदा पर भरोसा रखो और कारसाज़ी में खुदा काफ़ी है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा न बात मानें काफ़िरों और मुनाफ़िक़ों की तथा न चिन्ता करें उनके दुःख पहुँचाने की और भरोसा करें अल्लाह पर तथा पर्याप्त है अल्लाह काम बनाने के लिए।