Skip to main content

अल-अह्जाब आयत ४९ | Al-Ahzab 33:49

O you who believe!
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगो जो
O you who believe!
ٱلَّذِينَ
ऐ लोगो जो
O you who believe!
ءَامَنُوٓا۟
ईमान लाए हो
When
إِذَا
जब
you marry
نَكَحْتُمُ
निकाह करो तुम
believing women
ٱلْمُؤْمِنَٰتِ
मोमिन औरतों से
and then
ثُمَّ
फिर
divorce them
طَلَّقْتُمُوهُنَّ
तलाक़ दे दो तुम उन्हें
before
مِن
इससे पहले
before
قَبْلِ
इससे पहले
[that]
أَن
कि
you have touched them
تَمَسُّوهُنَّ
तुम छुओ उन्हें
then not
فَمَا
तो नहीं
for you
لَكُمْ
तुम्हारे लिए
on them
عَلَيْهِنَّ
उन पर
any
مِنْ
कोई इद्दत
waiting period
عِدَّةٍ
कोई इद्दत
(to) count concerning them
تَعْتَدُّونَهَاۖ
तुम शुमार करो उसे
So provide for them
فَمَتِّعُوهُنَّ
तो कुछ फ़ायदा दो उन्हें
and release them
وَسَرِّحُوهُنَّ
और रुख़्सत करो उन्हें
(with) a release
سَرَاحًا
रुख़्सत करना
good
جَمِيلًا
भले तरीक़े से

Ya ayyuha allatheena amanoo itha nakahtumu almuminati thumma tallaqtumoohunna min qabli an tamassoohunna fama lakum 'alayhinna min 'iddatin ta'taddoonaha famatti'oohunna wasarrihoohunna sarahan jameelan

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

ऐ ईमान लानेवालो! जब तुम ईमान लानेवाली स्त्रियों से विवाह करो और फिर उन्हें हाथ लगाने से पहले तलाक़ दे दो तो तुम्हारे लिए उनपर कोई इद्दत नहीं, जिसकी तुम गिनती करो। अतः उन्हें कुछ सामान दे दो और भली रीति से विदा कर दो

English Sahih:

O you who have believed, when you marry believing women and then divorce them before you have touched them [i.e., consummated the marriage], then there is not for you any waiting period to count concerning them. So provide for them and give them a gracious release.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ऐ ईमानवालों जब तुम मोमिना औरतों से (बग़ैर मेहर मुक़र्रर किये) निकाह करो उसके बाद उन्हें अपने हाथ लगाने से पहले ही तलाक़ दे दो तो फिर तुमको उनपर कोई हक़ नहीं कि (उनसे) इद्दा पूरा कराओ उनको तो कुछ (कपड़े रूपये वग़ैरह) देकर उनवाने शाइस्ता से रूख़सत कर दो

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

हे ईमान वालो! जब तुम विवाह करो ईमान वालियों से, फिर तलाक़ दो उन्हें, इससे पूर्व कि हाथ लगाओ उनको, तो नहीं है तुम्हारे लिए उनपर कोई इद्दत,[1] जिसकी तुम गणना करो। तो तुम उन्हें कुछ लाभ पहुँचाओ और उन्हें विदा करो भलाई के साथ।