Skip to main content

अस-सफ्फात आयत ३० | As-Saaffat 37:30

And not
وَمَا
और ना
was
كَانَ
था
for us
لَنَا
हमारे लिए
over you
عَلَيْكُم
तुम पर
any
مِّن
कोई ज़ोर
authority
سُلْطَٰنٍۭۖ
कोई ज़ोर
Nay
بَلْ
बल्कि
you were
كُنتُمْ
थे तुम
a people
قَوْمًا
एक क़ौम
transgressing
طَٰغِينَ
सरकश

Wama kana lana 'alaykum min sultanin bal kuntum qawman tagheena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और हमारा तो तुमपर कोई ज़ोर न था, बल्कि तुम स्वयं ही सरकश लोग थे

English Sahih:

And we had over you no authority, but you were a transgressing people.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (साफ़ तो ये है कि) हमारी तुम पर कुछ हुकूमत तो थी नहीं बल्कि तुम खुद सरकश लोग थे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा नहीं था हमारा तुमपर कोई अधिकार,[1] बल्कि तुम सवंय अवज्ञाकारी थे।