Skip to main content

अज-ज़ुमर आयत १० | Az-Zumar 39:10

Say
قُلْ
कह दीजिए
"O My slaves
يَٰعِبَادِ
ऐ मेरे बन्दो
[those] who
ٱلَّذِينَ
वो जो
believe!
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए हो
Fear
ٱتَّقُوا۟
डरो
your Lord
رَبَّكُمْۚ
अपने रब से
For those who
لِلَّذِينَ
उनके लिए जिन्होंने
do good
أَحْسَنُوا۟
अच्छा किया
in
فِى
इस दुनिया में
this
هَٰذِهِ
इस दुनिया में
world
ٱلدُّنْيَا
इस दुनिया में
(is) good
حَسَنَةٌۗ
भलाई है
and the earth
وَأَرْضُ
और ज़मीन
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह की
(is) spacious
وَٰسِعَةٌۗ
वसीअ है
Only
إِنَّمَا
बेशक
will be paid back in full
يُوَفَّى
पूरा-पूरा दिए जाऐंगे
the patient
ٱلصَّٰبِرُونَ
सब्र करने वाले
their reward
أَجْرَهُم
अजर अपना
without
بِغَيْرِ
बग़ैर
account"
حِسَابٍ
हिसाब के

Qul ya 'ibadi allatheena amanoo ittaqoo rabbakum lillatheena ahsanoo fee hathihi alddunya hasanatun waardu Allahi wasi'atun innama yuwaffa alssabiroona ajrahum bighayri hisabin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

कह दो कि 'ऐ मेरे बन्दो, जो ईमान लाए हो! अपने रब का डर रखो। जिन लोगों ने अच्छा कर दिखाया उनके लिए इस संसार में अच्छाई है, और अल्लाह की धरती विस्तृत है। जमे रहनेवालों को तो उनका बदला बेहिसाब मिलकर रहेगा।'

English Sahih:

Say, "O My servants who have believed, fear your Lord. For those who do good in this world is good, and the earth of Allah is spacious. Indeed, the patient will be given their reward without account [i.e., limit]."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐ रसूल) तुम कह दो कि ऐ मेरे ईमानदार बन्दों अपने परवरदिगार (ही) से डरते रहो (क्योंकि) जिन लोगों ने इस दुनिया में नेकी की उन्हीं के लिए (आख़ेरत में) भलाई है और खुदा की ज़मीन तो कुशादा है (जहाँ इबादत न कर सको उसे छोड़ दो) सब्र करने वालों ही की तो उनका भरपूर बेहिसाब बदला दिया जाएगा

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

आप कह दें उन भक्तों से, जो ईमान लाये तथा डरे अपने पालनहार से कि उन्हीं के लिए जिन्होंने सदाचार किये इस संसार में, बड़ी भलाई है तथा अल्लाह की धरती विस्तृत है और धैर्यवान ही अपना पूरा प्रतिफल अगणित दिये जायेंगे।