Skip to main content

अज-ज़ुमर आयत २२ | Az-Zumar 39:22

So is (one for) whom
أَفَمَن
क्या भला वो जो
Allah has expanded
شَرَحَ
खोल दिया
Allah has expanded
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
his breast
صَدْرَهُۥ
सीना उसका
for Islam
لِلْإِسْلَٰمِ
इस्लाम के लिए
so he
فَهُوَ
पस वो है
(is) upon
عَلَىٰ
एक नूर पर
a light
نُورٍ
एक नूर पर
from
مِّن
अपने रब की तरफ़ से
his Lord
رَّبِّهِۦۚ
अपने रब की तरफ़ से
So woe
فَوَيْلٌ
तो हलाकत है
to (those are) hardened
لِّلْقَٰسِيَةِ
उनके लिए कि सख़्त हैं
their hearts
قُلُوبُهُم
दिल जिनके
from
مِّن
अल्लाह की याद से
(the) remembrance of Allah
ذِكْرِ
अल्लाह की याद से
(the) remembrance of Allah
ٱللَّهِۚ
अल्लाह की याद से
Those
أُو۟لَٰٓئِكَ
यही लोग हैं
(are) in
فِى
खुली गुमराही में
error
ضَلَٰلٍ
खुली गुमराही में
clear
مُّبِينٍ
खुली गुमराही में

Afaman sharaha Allahu sadrahu lilislami fahuwa 'ala noorin min rabbihi fawaylun lilqasiyati quloobuhum min thikri Allahi olaika fee dalalin mubeenin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

अब क्या वह व्यक्ति जिसका सीना (हृदय) अल्लाह ने इस्लाम के लिए खोल दिया, अतः वह अपने रब की ओर से प्रकाश पर है, (उस व्यक्ति के समान होगा जो कठोर हृदय और अल्लाह की याद से ग़ाफ़िल है)? अतः तबाही है उन लोगों के लिए जिनके दि कठोर हो चुके है, अल्लाह की याद से ख़ाली होकर! वही खुली गुमराही में पड़े हुए है

English Sahih:

So is one whose breast Allah has expanded to [accept] IsLam and he is upon [i.e., guided by] a light from his Lord [like one whose heart rejects it]? Then woe to those whose hearts are hardened against the remembrance of Allah. Those are in manifest error.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तो क्या वह शख्स जिस के सीने को खुदा ने (क़ुबूल) इस्लाम के लिए कुशादा कर दिया है तो वह अपने परवरदिगार (की हिदायत) की रौशनी पर (चलता) है मगर गुमराहों के बराबर हो सकता है अफसोस तो उन लोगों पर है जिनके दिल खुदा की याद से (ग़ाफ़िल होकर) सख्त हो गए हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तो क्या खोल दिया हो अल्लाह ने जिसका सीना इस्लाम के लिए, तो वह एक प्रकाश पर हो अपने पालनहार की ओर से। तो विनाश है जिनके दिल कड़े हो गये अल्लाह के स्मरण से, वही खुले कुपथ में हैं।