Skip to main content

अज-जुखरूफ आयत ५४ | Az-Zukhruf 43:54

So he bluffed
فَٱسْتَخَفَّ
तो उसने हल्का (बेअक़्ल)कर दिया
his people
قَوْمَهُۥ
अपनी क़ौम को
and they obeyed him
فَأَطَاعُوهُۚ
तो उन्होंने इताअत की उसकी
Indeed they
إِنَّهُمْ
बेशक वो
were
كَانُوا۟
थे वो
a people
قَوْمًا
लोग
defiantly disobedient
فَٰسِقِينَ
फ़ासिक़

Faistakhaffa qawmahu faata'oohu innahum kanoo qawman fasiqeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

तो उसने अपनी क़ौम के लोगों को मूर्ख बनाया औऱ उन्होंने उसकी बात मान ली। निश्चय ही वे अवज्ञाकारी लोग थे

English Sahih:

So he bluffed his people, and they obeyed him. Indeed, they were [themselves] a people defiantly disobedient [of Allah].

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ग़रज़ फिरऔन ने (बातें बनाकर) अपनी क़ौम की अक़ल मार दी और वह लोग उसके ताबेदार बन गये बेशक वह लोग बदकार थे ही

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तो उसने झाँसा दे दिया अपनी जाति को और सबने उसकी बात मान ली। वास्तव में, वे थे ही अवज्ञाकारी लोग।