Skip to main content
bismillah
حمٓ
ح م

Hameem

हा॰ मीम॰

Tafseer (तफ़सीर )
وَٱلْكِتَٰبِ
क़सम है किताब
ٱلْمُبِينِ
वाज़ेह की

Waalkitabi almubeeni

गवाह है स्पष्ट किताब

Tafseer (तफ़सीर )
إِنَّا
बेशक हमने
جَعَلْنَٰهُ
बनाया हमने उसे
قُرْءَٰنًا
क़ुरान
عَرَبِيًّا
अर्बी
لَّعَلَّكُمْ
ताकि
تَعْقِلُونَ
तुम समझ सको

Inna ja'alnahu quranan 'arabiyyan la'allakum ta'qiloona

हमने उसे अरबी क़ुरआन बनाया, ताकि तुम समझो

Tafseer (तफ़सीर )
وَإِنَّهُۥ
और बेशक वो
فِىٓ
असल किताब में है
أُمِّ
असल किताब में है
ٱلْكِتَٰبِ
असल किताब में है
لَدَيْنَا
हमारे पास
لَعَلِىٌّ
अलबत्ता बहुत बुलन्द है
حَكِيمٌ
हिकमत से लबरेज़ है

Wainnahu fee ommi alkitabi ladayna la'aliyyun hakeemun

और निश्चय ही वह मूल किताब में अंकित है, हमारे यहाँ बहुच उच्च कोटि की, तत्वदर्शिता से परिपूर्ण है

Tafseer (तफ़सीर )
أَفَنَضْرِبُ
क्या फिर हम रोक लें
عَنكُمُ
तुम से
ٱلذِّكْرَ
इस नसीहत को
صَفْحًا
ऐराज़ करते हुए
أَن
कि
كُنتُمْ
हो तुम
قَوْمًا
लोग
مُّسْرِفِينَ
हद से बढ़ने वाले

Afanadribu 'ankumu alththikra safhan an kuntum qawman musrifeena

क्या इसलिए कि तुम मर्यादाहीन लोग हो, हम तुमपर से बिलकुल ही नज़र फेर लेंगे?

Tafseer (तफ़सीर )
وَكَمْ
और कितने ही
أَرْسَلْنَا
भेजे हमने
مِن
नबियों में से
نَّبِىٍّ
नबियों में से
فِى
पहलों में
ٱلْأَوَّلِينَ
पहलों में

Wakam arsalna min nabiyyin fee alawwaleena

हमने पहले के लोगों में कितने ही रसूल भेजे

Tafseer (तफ़सीर )
وَمَا
और नहीं
يَأْتِيهِم
आया उनके पास
مِّن
कोई नबी
نَّبِىٍّ
कोई नबी
إِلَّا
मगर
كَانُوا۟
थे वो
بِهِۦ
उसका
يَسْتَهْزِءُونَ
वो मज़ाक़ उड़ाते

Wama yateehim min nabiyyin illa kanoo bihi yastahzioona

किन्तु जो भी नबी उनके पास आया, वे उसका परिहास ही करते रहे

Tafseer (तफ़सीर )
فَأَهْلَكْنَآ
तो हलाक कर दिया हमने
أَشَدَّ
सबसे शदीद को
مِنْهُم
उनमें से
بَطْشًا
पकड़ में
وَمَضَىٰ
और गुज़र चुकी
مَثَلُ
मिसाल
ٱلْأَوَّلِينَ
पहलों की

Faahlakna ashadda minhum batshan wamada mathalu alawwaleena

अन्ततः हमने उनको पकड़ में लेकर विनष्ट कर दिया जो उनसे कहीं अधिक बलशाली थे। और पहले के लोगों की मिसाल गुज़र-चुकी है

Tafseer (तफ़सीर )
وَلَئِن
और अलबत्ता अगर
سَأَلْتَهُم
पूछें आप उनसे
مَّنْ
किसने
خَلَقَ
पैदा किया
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों
وَٱلْأَرْضَ
और ज़मीन को
لَيَقُولُنَّ
अलबत्ता वो ज़रूर कहेंगे
خَلَقَهُنَّ
पैदा किया उन्हें
ٱلْعَزِيزُ
निहायत ग़ालिब
ٱلْعَلِيمُ
ख़ूब इल्म वाले ने

Walain saaltahum man khalaqa alssamawati waalarda layaqoolunna khalaqahunna al'azeezu al'aleemu

यदि तुम उनसे पूछो कि 'आकाशों और धरती को किसने पैदा किया?' तो वे अवश्य कहेंगे, 'उन्हें अत्यन्त प्रभुत्वशाली, सर्वज्ञ सत्ता ने पैदा किया।'

Tafseer (तफ़सीर )
ٱلَّذِى
वो जिसने
جَعَلَ
बनाया
لَكُمُ
तुम्हारे लिए
ٱلْأَرْضَ
ज़मीन को
مَهْدًا
बिछौना
وَجَعَلَ
और उसने बनाए
لَكُمْ
तुम्हारे लिए
فِيهَا
उसमें
سُبُلًا
रास्ते
لَّعَلَّكُمْ
ताकि तुम
تَهْتَدُونَ
तुम राह पाओ

Allathee ja'ala lakumu alarda mahdan waja'ala lakum feeha subulan la'allakum tahtadoona

जिसने तुम्हारे लिए धरती को गहवारा बनाया औऱ उसमें तुम्हारे लिए मार्ग बना दिए. ताकि तुम्हें मार्गदर्शन प्राप्त हो

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अज-जुखरूफ
القرآن الكريم:الزخرف
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):Az-Zukhruf
सूरा:43
कुल आयत:89
कुल शब्द:-
कुल वर्ण:3400
रुकु:7
वर्गीकरण:मक्कन सूरा
Revelation Order:63
से शुरू आयत:4325